Connect with us

NATIONAL

यूपी पुलिस को विवाद सुलझाने जाना पड़ा भारी, जानिए कैसे

Published

on

UP Police had to go heavy to resolve the dispute

सत्य खबर,चंदौली 

चंदौली जिले के कोदई गांव में रविवार की देर रात दो पक्षों में विवाद सुलझाने पहुंची पुलिस टीम पर ग्रामीणों ने लाठी-डंडे से हमला बोल दिया। जिसमें दरोगा सहित छह पुलिसकर्मी घायल हो गए। ग्रामीणों ने पथराव कर पुलिस वाहन को भी क्षतिग्रस्त कर दिया। सूचना के बाद कई थानों की फोर्स मौके पर पहुंची। घायल पुलिसकर्मियों को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मामले में 23 नामजद समेत अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ है। चार आरोपी गिरफ्तार हो चुके हैं। अन्य की तलाश में पुलिस टीम छापेमारी कर रही है।

 

एसपी चंदौली अंकुर अग्रवाल के अनुसार, कंदवा थाना क्षेत्र के कोदई गांव में पिछले दिनों एक होम गार्ड की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी। पड़ोस के गांव वाले एक व्यक्ति पर हत्या की आशंका जताते हुए मुकदमा दर्ज कराया गया था। पुलिस मामले की जांच कर रही है। इसी बीच रविवार देर रात मृत होमगार्ड का बेटा आरोपी के घर पहुंचकर गाली-गलौज करने लगा।UP Police had to go heavy to resolve the dispute

ALSO READ:

हवन की राख के फायदे जानकर आप रह जायेंगे हैरान

 

सख्ती बरतने पर आक्रोशित हुए ग्रामीण
जिसका विरोध करने पर वह मारपीट पर उतारू हो गया। वहीं, मामला बढ़ता देख दूसरे पक्ष ने डायल 112 पुलिस को सूचित कर दिया। पुलिस मौके पर पहुंचकर मामला समझने में जुटी थी तभी ग्रामीण पुलिसकर्मियों के साथ बदसलूकी करने लगे और धक्का-मुक्की की।

सूचना पर कंदवा थाना प्रभारी फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। सख्ती करने पर ग्रामीण आक्रोशित हो उठे और पुलिस टीम पर हमला बोल दिया। लाठी-डंडे से हुए हमले में एसएचओ कंदवा राजेश सरोज समेत करीब छह पुलिसकर्मी घायल हो गए। घायल पुलिसकर्मियों का इलाज चल रहा है। मामले में पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार किया। अन्य हमलावरों की तलाश में पुलिस टीम जुटी हुई है।UP Police had to go heavy to resolve the dispute

पुलिसकर्मियों ने भागकर बचाई अपनी जान
स्थानीय लोगों के अनुसार, ग्रामीणों के हमले के बाद पुलिस टीम पूरी तरह से बैकफुट पर आ गई और किसी तरह भागकर अपनी जान बचाई। सूचना के बाद सैयदराजा और धीना थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची। इसके अलावा एसपी चंदौली भी मौके पर पहुंचे और हालात का जायजा लिया। वहीं, घायल पुलिसकर्मियों को जिला अस्पताल की बजाय गाजीपुर के जमानियां भेज दिया गया।