Connect with us

NEW DELHI

मौसम अपडेट: जानिए आज आपके राज्य में बारिश होगी या नहीं

Published

on

Weather Update: Know whether it will rain in your state today

सत्य खबर , नई दिल्ली 

बीते दिनों बारिश के बाद राजधानी दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे उत्तर प्रदेश में गर्मी का सितम फिर जारी है। यहां सुबह-सुबह निकल रही धूप और उसम से लोग परेशान हैं। इस बीच भारतीय मौसम विभाग ने दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए पूर्वानुमान जारी किया है। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक, अगले 24 घंटे यानी गुरुवार को दिल्ली-एनसीआर में तेज हवाओं के साथ बारिश के आसार हैं। इससे लोगों को राहत मिलने की उम्मीद है।

Also read – हरियाणा: पेट्रोल डीजल के दामों में फिर भी बढ़ोतरी, जानिए अपने शहर का रेट

Also read – दुनिया के सबसे अमीर आदमी ने बेचा अपना घर, क्यों बेचा जानने के लिए पढ़े ये खबर

इसके अलावा मौसम विभाग ने आने वाले कुछ दिनों में पूर्वी, मध्य और पश्चिमी भारत के कई हिस्सों में भारी बारिश की संभावना जताई है। आईएमडी के अनुसार, अगले दो दिनों के दौरान मध्य महाराष्ट्र, ओडिशा, छत्तीसगढ़, विदर्भ, गुजरात, कोंकण और गोवा में भीषण बारिश होगी। मौसम वैज्ञानिकों ने बताया, यहां मानसून ट्रफ सक्रिय है और अपनी सामान्य स्थिति के दक्षिण में स्थित है, जो अगले तीन दिनों तक ऐसा ही रहेगा।

 

 

इन राज्यों में गरज के साथ बारिश के आसार 

भारतीय मौसम विभाग की ओर से जारी किए गए बुलेटिन के मुताबिक, पश्चिम बंगाल के अलग-अलग क्षेत्रों में 11 से 13 तारीख तक गरज के साथ बारिश की संभावना है। इसके अलावा, झारखंड, ओडिशा अरुणाचल प्रदेश,असम, मेघालय नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में दो से तीन दिनों में बारिश की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग ने कहा है कि मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और कोंकण, गोवा के अलग-अलग हिस्सासें में गरज के साथ बारिश की संभावना बनी हुई है। इसके अलावा गुजरात, तेलंगाना और तमिलनाडु के तटीय घाट क्षेत्रों में भी बारिश के आसार हैं।

 

उत्तराखंड में ऑरेंज अलर्ट 

मौसम विभाग ने उत्तराखंड के देहरादून, चमोली, बागेश्वर, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग में आज बहुत भारी बारिश की संभावना के चलते ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। इन जिलों में कुछ इलाकों में तेज गर्जना के साथ बिजली गिरने की भी संभावना है। मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक विक्रम सिंह ने बताया कि बहुत भारी बारिश की संभावना को देखते हुए नदियों, नालों के किनारे बसे लोगों के साथ ही भूस्खलन संभावित इलाकों में बसे लोगों को सावधान रहने की जरूरत है।