Connect with us

Haryana

कचरे में बचपन बिता रहे बच्चों को चाइल्डलाइन की टीम ने किया रेस्क्यू!

सत्यखबर, यमुनानगर (सुमित ओबेरॉय) – कचरे में बचपन बिता रहे बच्चों को चाइल्डलाइन की टीम में बाल कल्याण समिति और पुलिस के साथ एक संयुक्त टीम बनाकर किया रेस्क्यू चाइल्डलाइन को किसी ने फोन पर सूचना दी कि कैल में बने कचरा प्लांट पर बहुत सारे बच्चे कचरा बीनने का काम करते है। इसी सूचना […]

Published

on

सत्यखबर, यमुनानगर (सुमित ओबेरॉय) – कचरे में बचपन बिता रहे बच्चों को चाइल्डलाइन की टीम में बाल कल्याण समिति और पुलिस के साथ एक संयुक्त टीम बनाकर किया रेस्क्यू चाइल्डलाइन को किसी ने फोन पर सूचना दी कि कैल में बने कचरा प्लांट पर बहुत सारे बच्चे कचरा बीनने का काम करते है। इसी सूचना पर कड़ी मशक्कत के बाद टीम ट्राली की मदद से कचरे के बीच पहुंची और कचरा बिन रही 6 बच्चियों को वहां से रेस्क्यू किया और उनका मेडिकल करवाया।

इस कचरे में इतनी बदबू है कि यहाँ खड़े हों पाना भी बेहद मुश्किल है लेकिन इसी मौत के कचरे में ये छोटी बच्चिया कूड़ा बीनने का काम करती है।इन बच्चो को इस मौत के दलदल में काम करता देख किसी ने चाइल्ड लाइन को इसकी सूचना दी ।सूचना के बाद बचपन को बचाने चाइल्ड लाइन की टीम ओर बाल कल्याण समिति और पुलिस के साथ एक संयुक्त टीम बनाई और इन बच्चो को रेस्क्यू करने पहुंची।जब टीम पहुंची तो रेस्क्यू करना आसान नही था क्योंकि इस कचरे के बीच गाड़ी नही जा सकती थी।कचरे के बीच बच्चो तक पहुंचने के लिए ट्राली की मदद ली गयी।

चाइल्ड लाइन के कोऑर्डिनेटर भानू प्रताप ने बताया कि चाइल्ड लाइन नंबर 1098 पर मंगलवार शाम को किसी ने सूचना दी कि कचरे के प्लांट पर बहुत सारे छोटे बच्चे कचरा बीनने का काम करते हैं और स्कूल भी नही जाते इस पर टीम ने बुधवार को कैल के कचरे के प्लांट का दौरा किया परंतु उस समय वहां कोई बच्चा नही मिला। आज फिर चाइल्ड लाइन व बाल कल्याण समिति की संयुक्त टीम ने वहां रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया, जब टीम वहां गयी तो देखा कि कीचड़ व कचरे के ढेर से गाड़ी का प्लांट के अंदर जा पाना मुश्किल है तो टीम ट्रैक्टर ट्रॉली इन बैठ कर अंदर गयी और वहां पर कचरा बिन रही 6 बच्चीयों को रेस्क्यू करवाया। टीम ने देखा कि कचरे व गंदगी के इस वातावरण में बच्चों को बहुत सी बीमारियां भी हो सकती हैं।

चाइल्ड लाइन की निदेशिका डॉ अंजू बाजपई व बाल कल्याण समिति के सदस्य सुरेशपाल के सामने काउन्सलिंग के दौरान बच्चियों ने बताया कि वें कभी स्कूल गयी ही नही ओर उनके माता पिता जैसे कूड़ा कचरा बीनते हैं वें भी ऐसे ही काम करती हैं। इस पर टीम ने सभी बच्चीयों का मेडिकल करवा कर बाल कल्याण समिति के आदेशानुसार शेल्टर होम भेज दिया। समिति के सदस्य सुरेशपाल ने बताया कि अभी सभी बच्चीयों की काउन्सलिंग की जाएगी व उनका स्कूल जाना सुनिश्चित किया जाएगा। यदि माता पिता ऐसा नही करेंगे तो उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी और बच्चीयों को बालकुंज में रखकर पढ़ाया जाएगा। ताकि ये बच्चे भी समाज की मुख्यधारा में शामिल हो सकें। चाइल्ड लाइन की निदेशिका डॉ अंजू बाजपई ने बताया कि ऐसे ऑपरेशन चाइल्ड लाइन आगे भी जारी रखेगी व लोगों से भी अपील की के वें भी इस प्रकार की सूचनाएं चाइल्ड लाइन 1098 पर ज्यादा से ज्यादा दें।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *