Connect with us

Business

दिल्ली में शराब पीने वाली महिलाओं की संख्या बढ़ी, जानिए कितनी हुई

Published

on

सत्य खबर, नई दिल्ली । कोरोना महामारी के बाद लोगों की लाइफ स्टाइल में काफी बदलाव देखे गए. इसको लेकर कई सर्वों में अलग-अलग बातें सामने आ चुकी है. पहले की अपेक्षा लोगों में तनाव, नींद न आना इस तरह की कई समस्याएं हो रही हैं. दिल्ली में महिलाओं के बीच एक सर्वे किया गया है. जिसमें चौंकाने वाले फैक्ट्स सामने आ रहे हैं. राजधानी की 37 फीसदी से अधिक महिलाओं का मानना ​​है कि पिछले तीन वर्षों में उनकी शराब की लत में वृद्धि हुई है.

एक सर्वे में दावा किया है कि कोविड के बाद महिलाओं के बीच शराब की खपत बढ़ गई है. सर्वेक्षण में एक सवाल ये भी था कि इसके पीछे क्या-क्या कारण हो सकते हैं? 45 प्रतिशत से अधिक महिलाओं ने कहा कि उनके पीने की आदत बढ़ने का कारण तनाव (स्ट्रेस) है. गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) कम्युनिटी अगेंस्ट ड्रंकन ड्राइविंग ने ये सर्वे किया था. इसमें महामारी के कारण लगाए गए लॉकडाउन, शराब की उपलब्धता में तेजी और खर्च के तरीके में बदलाव को महिलाओं में शराब की खपत में वृद्धि के लिए जिम्मेदार माना गया है.

सबसे ज्यादा तनाव है कारण
सर्वे में जानकारी सामने आई है कि 45.7 परसेंट महिलाएं तनाव के कारण शराब पीती हैं. ये तनाव कई तरह से हो सकता है. ऑफिस का तनाव, फैमली टेंशन, अगर शादीशुदा हैं तो पति से तालमेल न बैठना, बैचलर हैं तो सेटल होने का तनाव, जॉब इनसेक्युरिटी. ये तमाम कारण हैं जिसकी वजह से आपको तनाव होता है और फिर आपको महसूस होने लगता है कि शराब पीने से दिमाग शांत हो जाता है और नींद आ जाती है. 34.4 फीसदी महिलाओं का मानना है शराब आसानी से उपलब्ध हो जाती है इसलिए इसका सेवन ज्यादा बढ़ गया है. ये भी एक बड़ा कारण है. 30.1 फीसदी महिलाओं का मानना है कि वो बोर हो जाती हैं यानी समय नहीं कटता. इसका कारण है अपनों का दूर होना. आपकी जिंदगी में कुछ इंसान ऐसे होने चाहिए जिनसे किसी भी मतलब से आपका रिश्ता न हो. बस आप खुलकर उनसे अपनी बात कर सकें.

क्यों ज्यादा शराब पी रही हैं महिलाएं ?
इसके पीछे कई कारण हो सकते हैं. और शहरों की अपेक्षा मेट्रो शहरों की लाइफ स्टाइल में बड़ा फर्क होता है. दिल्ली में महिलाओं के बीच किए गए सर्वे में मुख्य रूप से दो कारण सबसे अहम हैं. पहला कारण है तनाव और दूसरा अकेलापन. इन दोनों वजहों से महिलाएं ज्यादा शराब पी रही हैं. तीन साल पहले और अब के वक्त में बहुत बड़ा बदलाव देखने को मिला है. कोरोना के बाद चीजें बहुत तेजी से बदल रही हैं. दिल्ली एनसीआर में जॉब करने वाली महिलाएं अक्सर अपने परिवार से दूर रहती हैं. इस दौरान उनको अकेलापन महसूस होता है. ऐसे में वो ग्रुप्स के बीच उठती बैठती हैं, जहां पर शराब की लत पड़ जाती है. डिप्रेशन, लोनलीनेस (अकेलापन), दिमागी और शारीरिक वजहों के कारण ये आदत हावी होती जा रही है.

सीएडीडी के सर्वे ने बढ़ाई टेंशन
सीएडीडी ने एक बयान में कहा कि सर्वे में शामिल 5,000 महिलाओं में से 37.6 प्रतिशत महिलाओं ने माना कि उनकी शराब की खपत बढ़ गई है. जबकि 42.3 प्रतिशत महिलाओं ने इसे अनियमित और अवसर आधारित माना. 34.4 प्रतिशत महिलाओं ने शराब की बढ़ी उपलब्धता और 30.1 प्रतिशत ने इसका कारण बोर होना बताया. सेंटर फॉर अल्कोहल स्टडीज भारत सरकार के अनुसार अगले पांच वर्षों में महिलाओं के शराब बाजार में 25 प्रतिशत की वृद्धि होने की उम्मीद है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *