Connect with us

Business

शुक्रवार सुबह से जानें कितना होगा पेट्रोल-डीजल की कीमत में इजाफा

Published

on

सत्य खबर, नई दिल्ली। पांच राज्यों में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद पेट्रोल और डीजल की कीमत बढ़ने का सिलसिला लगातार जारी है. बीते चार दिनों में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में तीन दिन बढ़ोतरी की गई है. शुक्रवार की सुबह 6 से पेट्रोल डीजल फिर महंगी हो जाएगी. इस बार भी पहले की ही तरह 80-80 पैसों की बढ़ोतरी की गई है. शुक्रवार को दिल्ली में पेट्रोल 97.81 और डीजल 89.07 रुपये प्रति लीटर मिलेगा. बता दें कि पिछले तीन दिनों में पेट्रोल-डीजल की कीमत में 2.40 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई है

इससे पहले बुधवार देर रात को सीएनजी और पीएजी की कीमतों में बढ़ोतरी की गई थी. IGL ने CNG की कीमत में 50 पैसे और PNG की कीमत में 1 रुपये की बढ़ोतरी कीं. नई दरें आज यानी गुरुवार 24 मार्च से लागू हो गईं. पेट्रोल-डीजल की कीमतों में इजाफे की बड़ी वजह क्रूड ऑयल का महंगा होना माना जा रहा है.

मालूम हो कि जून 2017 से पेट्रोल और डीजल की कीमतों को बीते 15 दिन की अंतरराष्ट्रीय दर के अनुरूप दैनिक रूप से समायोजित किया जा रहा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली सरकार ने पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क में पांच रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 10 रुपये प्रति लीटर की कटौती की थी, जिसके बाद चार नवंबर, 2021 से ईंधन की दरें नहीं बढ़ी थी. हालांकि इसके बाद बीते तीन दिनों में 2.40 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि की गई है. इससे पहले पेट्रोल की कीमत 110.04 रुपये प्रति लीटर के सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गई थी और डीजल 98.42 रुपये प्रति लीटर हो गया था.

रसोई गैस की कीमत में भी 50 रुपये का हुआ था इजाफा
एक दिन पहले ही राष्ट्रीय राजधानी में बिना सब्सिडी वाले, 14.2 किलोग्राम के रसोई गैस सिलेंडर की कीमत बढ़ाकर 949.50 रुपये कर दी गई हैं. एलपीजी की दर में अंतिम बार छह अक्टूबर 2021 को संशोधन किया गया था. एलपीजी की कीमत जुलाई और अक्टूबर 2021 के बीच प्रति सिलेंडर 100 रुपये के करीब बढ़ गई थीं. गैर-सब्सिडी वाली रसोई गैस वह है जिसे उपभोक्ता सब्सिडी वाले या बाजार से कम दरों पर 12 सिलेंडरों का अपना कोटा खत्म हो जाने के बाद खरीदते हैं