Connect with us

Haryana

पक्षियों को गर्मी से बचाने के लिए शहर में रखे पानी से भरे कसोरे व दाना

जीन्द :- जून की चिलचिलाती धूप में पक्षी पानी के लिए मारे मारे फिर रहे हैं। उसी को देखते हुए महत्मा गांधी शिक्षा एवं समाज विकास संगठन द्वारा एम जी रैड क्रॉस कम्प्यूटर सेण्टर के विद्यार्थियों के सहयोग से गोहाना रोड,ग्रीन बेल्ट अर्बन एस्टेट इत्यादि के पार्कों में पक्षियों के पीने के लिए पानी से […]

Published

on

जीन्द :- जून की चिलचिलाती धूप में पक्षी पानी के लिए मारे मारे फिर रहे हैं। उसी को देखते हुए महत्मा गांधी शिक्षा एवं समाज विकास संगठन द्वारा एम जी रैड क्रॉस कम्प्यूटर सेण्टर के विद्यार्थियों के सहयोग से गोहाना रोड,ग्रीन बेल्ट अर्बन एस्टेट इत्यादि के पार्कों में पक्षियों के पीने के लिए पानी से भरे कसोरे व दाना रखा गया ।इस अवसर पर विशेष तौर पर जिला नागरिक अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक डॉ राजेश भोला व अग्रवाल समाज के अध्यक्ष डॉ राजकुमार गोयल आमंन्त्रित रहे | वरिष्ठ चिकित्सक डॉ राजेश भोला ने कहा कि मेरी बेटी मेरा वैभव टीम की इस कार्य की भूरी -भूरी प्रशंसा करते हुए कहा कि प्रत्येक व्यक्ति का नैतिक कर्तव्य है कि बेजुबान पशु -पक्षियों के लिए कुछ न कुछ करें । गौरतलब है कि गोहाना रोड,ग्रीन बेल्ट अर्बन एस्टेट के पार्क में पक्षियों के पीने के लिए कहीं पानी उपलब्ध नहीं है। जयंती देवी मंदिर के पास एक मात्र नहर पानी का जरिया है, लेकिन आजकल उसमें भी पानी नहीं है। ऐसे में पक्षी पानी के लिए भटक रहे हैं। अग्रवाल समाज के अध्यक्ष डॉ राजकुमार गोयल ने कहा कि महत्मा गांधी शिक्षा एवं समाज विकास संगठन द्वारा जो दाना पानी मुहीम चलाई हुई है वह सराहनीय कार्य है आज के समय में जब भाई को भाई के लिए समय नहीं है ऐसे में इस संस्था द्वारा समय निकालकर बेजुबान पक्षियों के लिए खाने व पिने का प्रबंध करना पुण्य का काम है और इस कार्य के लिए संस्था की जितनी प्रसंशा की जाए उतनी कम है |
संस्था द्वारा दाना पानी मुहीम के तहत शनिवार को महत्मा गांधी इंस्टिट्यूट की छात्राओं व छात्रों के सहयोग से पक्षियों के लिए पानी से भरे करीबन 75 मिट्टी के कसोरे पेड़ों पर लटकाए। इसके अलावा पार्क में जगह जगह दाना भी डाला गया । इस अवसर पर सुरेश चौहान , सज्जन सैनी , नरेंदर मलिक ,पूजा जांगड़ा ,मोहित, अंशुल आदि मौजूद रहे । संगठन के अध्यक्ष राजकुमार भोला का कहना है कि प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी दाना पानी मुहिम संस्था द्वारा शुरू की गई है उन्होने कहा कि इन कसोरों के पानी को हर रोज उनके संगठन के सदस्य बदलेंगे। पहले वाले पानी को निकाल कर हर कसोरे में प्रतिदिन ताजा पानी भरा जाएगा। । इसके अलावा पक्षियों के लिए मक्का, बाजरा दलिया भी हर रोज डाला जाएगा। रैडक्रॉस कम्प्यूटर सेण्टर में शिक्षा ले रही छात्राओं मधु ,सोनाली ,अन्नू, दीक्षा, ममता, बिन्दु, सीमा, बबली, प्रीति, सोनू, मीनाक्षी, का कहना था कि पक्षियों के लिए गर्मी में पानी का प्रबंध करके उन्हें सुकून मिला है। वे हर साल गर्मियों के महीने में पक्षियों के लिए घरों की छत पर भी पानी का प्रबंध करेंगी। अर्बन एस्टेट की ग्रीन बेल्ट में विभिन्न प्रजातियों के पक्षी गोरैया, काली चिड़िया, काब्री, पहाड़ी कबूतर(गोले), तोता, कौआ इन बर्तनों में पानी पी रहे हैं और दाना खाने आएंगे । रात को निकलने वाले पक्षियों में चमगादड़ उल्लू को भी आसानी से पानी मिल जाया करेगा ।

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.