Connect with us

Haryana

पतंजलि योग समिति जिला प्रभारी निलेश मुदगल ने पास किया क्यूसीआई लेवल 2 का एडवांस स्टेज

योग मनुष्य के लिए ईश्वर का दिया सबसे बड़ा उपहार, इससे वह स्वयं से होता है परिचित – मुदगल सत्यखबर, महेंद्रगढ़ (मुन्ना लाम्बा) – पतंजलि योग समिति के जिला प्रभारी ने पास किया क्यूसीआई लेवल 2 का एडवांस स्टेज। पतंजलि योग समिति के जिला प्रभारी निलेश मुदगल ने गुरुवार को जारी परिणाम में योग विषय […]

Published

on

योग मनुष्य के लिए ईश्वर का दिया सबसे बड़ा उपहार, इससे वह स्वयं से होता है परिचित – मुदगल
सत्यखबर, महेंद्रगढ़ (मुन्ना लाम्बा) – पतंजलि योग समिति के जिला प्रभारी ने पास किया क्यूसीआई लेवल 2 का एडवांस स्टेज। पतंजलि योग समिति के जिला प्रभारी निलेश मुदगल ने गुरुवार को जारी परिणाम में योग विषय से क्यूसीआई लेवल 2 के एडवांस स्टेज को पास कर लिया है। पतंजलि योग समिति के प्रांतीय संवाद एवं मीडिया प्रभारी पवन देवास ने परीक्षा के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि क्यूसीआई यानी भारतीय गुणवत्ता परिषद भारत सरकार की एक ऑटोनॉमस बॉडी है, जो विभिन्न क्षेत्रों में गुणवत्ता के मानक निर्धारित करती है।

आपको बता दें कि गत 28 जुलाई को महेंद्रगढ़ के डुलाना रोड स्थित डीएवी विद्यालय में योग विषय की क्यूसीआई परीक्षा आयोजित की गई। इस परीक्षा में विद्यार्थी का योग, आसन, प्राणायाम, ध्यान, सूक्ष्म क्रियाएं, षटकर्म, योगदर्शन, उपनिषद, भगवत गीता, वेद, हठयोग ग्रंथ, योग में आधुनिक शोध, शरीर विज्ञान, मनोविज्ञान एवं डिसीजन मेकिंग में ज्ञान, कुशलता एवं शिक्षण क्षमताएं जांची जाती है। लिखित एवं प्रायोगिक 2 प्रारूपों में होने वाली इस परीक्षा में न्यूनतम उत्तीर्ण प्रतिशतता 70 प्रतिशत होती हैं। योग विषय में तीन बार नेट पास कर चुके योग आचार्य धर्मबीर सलूणी ने बताया की योग में नेट-जेआरएफ प्राप्त करने व क्यूसीआई लेवल 2 पास करने वाले निलेश मुदगल जिले के एकमात्र योगार्थी हैं। उन्होंने बताया कि निलेश पिछले 4 वर्षों से भी अधिक समय से लगातार जिलेभर के गांवों व शहरों में नि:शुल्क निष्काम भाव से योग प्रचार करते हुए साधकों को योग की सही विधियां सिखा रहे हैं।

इस बारे में निलेश मुदगल का कहना है कि यह सफलता मेरी माता कांता देवी व पिता जगराम मुदगल सहित सभी वरिष्ठ जनों के आशीर्वाद एवं शुभचिंतकों की दुआओं का परिणाम है। मेरे लिए योग कोई रोजगार पाने, धन कमाने या मात्र रोगों से छुटकारा दिलाने का जरिया नहीं है। योग मनुष्य जाति को ईश्वर का सबसे बड़ा वरदान है। योग से मानव का स्वयं से परिचय हो पाता है। ईश्वर का साक्षात्कार कर स्वयं की पूर्णता को अनुभव करता है। योग की सेवा अपने आप में मानव जाति की बड़ी सेवा है। आज के भोगवादी और रोगवादी जीवनशैली से मुक्ति में योग सबसे बड़ी भूमिका निभा सकता है। इस अवसर पर पतजंलि योग समिति, भारत स्वाभिमान, युवा भारत किसान पंचायत आदि सहित अनेकों सामाजिक संगठनों व क्षेत्र के गणमान्य लोगों ने निलेश मुदगल को इस अनन्य सफलता के लिए बधाइयां दी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.