Connect with us

Crime

डीजीपी से मिलने गए पीड़ितों को संतरी ने खदेड़ा, सेवा सुरक्षा सहयोग का नारा दिखावा : सारिका

Published

on

constable chased people who came to complain

constable chased people who came to complain

सत्य खबर गुरुग्राम, सतीश भारद्वाज। सेवा सुरक्षा सहयोग का स्लोगन और नारा देने वाली हरियाणा पुलिस इन दिनों काफी सुर्खियों बटोर रही है। जहां एक तरफ साइबर सिटी पुलिस लोगों के घरों में जबरदस्ती घुस कर घुस हुक्का, पानी पीने की जबरदस्ती डिमांड कर रही है। वहीं दूसरी तरफ शिकायत देने के बाद भी भ्रष्ट लोगों का साथ देते हुए पीड़ितों को न्याय नहीं दिला पा रही है। constable chased people who came to complain

एमसीडी वार्ड 3 के पीड़ित अशोक कुमार, राम लखन, नरेंद्र, सत्यदेव व एसएस शर्मा सहित करीब दर्जनभर क्षेत्र वासियों ने जानकारी देते हुए बताया कि थाना पालम विहार की पुलिस हमारी कुछ सुनती नहीं है और आज हमें पता लगा कि प्रदेश के डीजीपी पीके अग्रवाल साहब सेक्टर 22 स्थित रेस्ट हाउस में ठहरे हुए हैं। उनसे मिलना चाहते हैं तो गेटमैन अमन कुमार ने उनको वहां से खदेड़ते हुए भगा दिया। जब पत्रकार सतीश भारद्वाज ने कांस्टेबल संतरी से डीजीपी से मिलने की बात कही तो उन्होंने कहा कोई बात नहीं हो सकती और ना ही उनके किसी पीए का नाम और टेलीफोन नंबर उपलब्ध कराया। जब पत्रकार ने पीआरओ सुभाष बोकन से फोन पर बात की तो उनका कहना था कि इस बारे में मैं कुछ नहीं कह सकता कुछ देर बाद शहर में सिविल लाइन में साहब आएंगे तभी कोई बातचीत हो सकती हैं। यह मामला शुक्रवार सुबह 10:30 बजे के आसपास का है।

Also check these links:

आदमपुर उपचुनाव : गाड़ी में मिला मोटा कैश, जानिए किसका है

पति की पत्नी से हुई जबरदस्त पिटाई,

पीएम मोदी एक बार फिर पहुंचे बाबा केदारनाथ की शरण में

हरियाणा: दो पक्षों में चली गोलियां एक की मौत 5 घायल

गौरतलब है कि जहां साइबर सिटी पुलिस ने 2 दिन पहले ही एक इनामी बदमाश को मुठभेड़ के बाद काबू कर खूब अपनी वाहवाही लूटी थी। वही फाजिलपुर गांव में डीसीपी साउथ दफ्तर में तैनात एक एएसआई व कांस्टेबल द्वारा शराब के नशे में एक नेता के बुजुर्ग भाई के घर में जबरदस्ती घुस कर हुक्का पानी मांगने की बात से जहा पुलिस विभाग की जमकर किरकिरी हो रही है। जिसके चलते पुलिस विभाग का असली चेहरा सबके सामने साफ दिखाई दे रहा है।constable chased people who came to complain

बता दें कि वैसे तो प्रदेश के डीजीपी वीडियो में बयान देते रहते हैं कि देशवासियों के लिए हरियाणा पुलिस हमेशा तैयार है लेकिन आज का मामला देखने से ऐसा प्रतीत होता के प्रदेश के डीजीपी को भी प्रदेश वासियों की समस्याओं से कोई लेना देना नहीं है। आम आदमी पार्टी के नेता डॉक्टर सारिका वर्मा, अनु यादव, सुशीला कटारिया, का भी इस बात पर यही कहना था कि ना तो छोटे अधिकारी पीड़ितों की बात सुनने को राजी है ना ही पुलिस के उच्च अधिकारी जिसके लिए उन्होंने गुड़गांव पुलिस कमिश्नर पर भी महिला के प्रति सुरक्षा में बरती जा रही लापरवाही के आरोपों सहित महिलाओं के साथ भी रूखे पन से बातचीत करने के आरोप लगाए थे। जो महिलाएं शुक्रवार को उनसे महिला सुरक्षा के बारे में मिलने उनके दफ्तर में गई थी। जबकि हर थाने के बाहर नागरिकों की सुनवाई के लिए डीजीपी महोदय के मोबाइल नंबर भी सार्वजनिक लगे हुए हैं।