Connect with us

Haryana

585 करोड़ से 161 एकड़ में बनी रेल कोच मरम्मत फैक्टरी को किया लोकार्पित, शुरूआत में 1200 युवाओं को मिलेगा रोजगार

Published

on

Inaugurated Rail Coach Repair Factory

Inaugurated Rail Coach Repair Factory

सत्य खबर,सोनीपत, राम सिंहमार। एक लंबे इंतजार के बाद सोनीपत के गन्नौर में रेल कोच फैक्ट्री बनकर तैयार हो गई है और गृहमत्री अमित शाह द्वारा ऑनलाइन लोकार्पण किया गया है…स्थानीय सांसद रमेश कौशिक और विधायक निर्मल नारियल फोड़कर वंदे भारत ट्रेन की नवीनीकरण के बाद हरी झंडी दिखाई…ऐसे में सोनीपत के लिए ये सौगात विकास के लिए बड़ी कारगर साबित होगी..

गन्नौर के बड़ी में रेल कोच मरम्मत फैक्टरी बनाए जाने की घोषणा साल 2018 में हुई थी जबकि दिसम्बर 2019 में रोहतक में एक रैली के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फैक्टरी का वर्चुअली शिलान्यास किया था….फैक्टरी के निर्माण के लिए जून 2021 तक की समय सीमा तय की गई थी, लॉकडाऊन के कारण निर्धारित समय सीमा बढती चली गई। अब जबकि फैक्टरी बनकर तैयार है तो आज लोकार्पण किया गया है। वहीं सांसद रमेश कौशिक ने पूर्व सीएम हुड्डा के एक बयान का जवाब देते हुए कहा कि जो आदमी अपने दस साल में कुछ नहीं कर पाया उसको टिप्पणी नहीं करनी चाहिए…Inaugurated Rail Coach Repair Factory

Also check these news links:

गैंगस्टर प्रदीप कासनी को पुलिस कस्टडी में मारने की योजना, पुलिस ने नाकाम की साजिश

जीरा है पाचन तंत्र में रामबाण, जानिए कैसे

नौकरी के बदले सेक्स में फंसे ये दो बड़े अधिकारी

महिला क्रिकेटरों की हुई बल्ले बल्ले,जानिए कैसे

कपूरी धाम पहुंचे अंतरराष्ट्रीय पहलवान बजरंग पुनिया,बजरंग पुनिया ने गौशाला को ट्रैक्टर किया दान

गौरतलब है कि बड़ी औद्योगिक क्षेत्र में बनी रेल कोच मरम्मत फैक्टरी का कुल एरिया 161 एकड़ है, जिसमें 146 एकड़ में फैक्टरी के अलावा करीब 11 एकड़ मे रैजीडेंशियल एरिया बनाया गया है। वहीं 5 एकड़ में शानदार पार्क बनाया गया है। फैक्टरी 9 अलग-अलग शैड में बंटी है। एक शैड में पेंट शैड बनाया गया है, जहां पर तैयार रेल कोच पर पेंट किया जाएगा। इसके अलावा मैन वर्कशॉप बनी है। कंडम कोच को गलाने के लिए ग्लेंजिंग शैड बनाया गया है…फैक्टरी में मरम्मत के बाद तैयार कोच की मियाद 35 साल निर्धारित की गई है। इस बीच 12 साल के बाद कोच को फिर से फैक्टरी में मंगवाया जाएगा और उसे पूरी तरह से रिन्यू किया जाएगा। इसके ठीक 24 साल बाद कोच को कंडम घोषित कर ग्लेंजिंग शैड में ले जाकर गला दिया जाएगा…Inaugurated Rail Coach Repair Factory

रेल कोच फैक्टरी को पूरी तरह से आधुनिक तकनीक पर आधारित बनाया गया है। इसके परिसर में करीब 19 हजार पौधे लगाए गए हैं…वहीं, वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम, 1 मेगावाट का सौलर भी स्थापित किया गया है। प्रदूषण कम करने के अनेक उपाय किए गए हैं…रेल कोच मरम्मत फैक्टरी में लाइटवेट कोच तैयार होंगे, जो आधुनिक समय की मांग को पूरा करेंगे। ये कोच पूरी तरह से संतुलित, मजबूत और स्थिर होंगे। हालांकि, शुरूआत में सामान्य ट्रेनों के कोच तैयार किए जा रहे हैं, लेकिन कुछ समय बाद लाइटवेट कोच भी तैयार होने लगेंगे….जानकारी के मुताबिक शुरूआत में रेल कोच मरम्मत फैक्टरी में एक शिफ्ट में काम किया जा रहा है। जैसे लोड बढ़ेगा तो दोनों शिफ्टों में काम शुरू कर दिया जाएगा। शुरूआत में यहां 1200 युवाओं को रोजगार दिया जा रहा है, लेकिन लोड बढ़ने के साथ ही रोजगार बढ़ेगा… सत्य खबर के लिए सोनीपत से राम शीमार की रिपोर्ट