Connect with us

Haryana

कुलदीप बिश्नोई का कर्ज उतारने के लिए भव्य के लिए वोट मांग रहे कार्तिकेय शर्मा

Published

on

Kartikeya Sharma seeking votes for Bhavya

Kartikeya Sharma seeking votes for Bhavya

सत्य खबर, हिसार । राज्यसभा सांसद कार्तिकेय शर्मा कुलदीप बिश्नोई के बेटे भव्य बिश्नोई के चुनाव प्रचार में उतर गए हैं। कार्तिकेय वही निर्दलीय राज्यसभा सांसद है, जो कुलदीप बिश्नोई की अंतरात्मा की आवाज से जीते थे। कुलदीप की क्रॉस वोटिंग से कार्तिकेय ने कांग्रेस के अजय माकन को हराया था।

ऐसे में अब भव्य बिश्नोई के लिए वोट मांगकर कार्तिकेय कुलदीप की एक वोट का कर्ज उतारेंगे। कार्तिकेय शर्मा पूर्व केंद्रीय मंत्री और हरियाणा जनचेतना पार्टी के अध्यक्ष विनोद शर्मा के बेटे और पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप शर्मा के दामाद हैं Kartikeya Sharma seeking votes for Bhavya

ससुर कांग्रेस और दामाद भाजपा के लिए मांग रहे वोट
पूर्व विधानसभा अध्यक्ष कुलदीप शर्मा कांग्रेसी हैं। उनकी ड्यूटी आदमपुर उपचुनाव में जयप्रकाश के लिए चुनाव प्रचार में लगी हुई है। वे उसके लिए वोट मांग रहे हैं। दूसरी ओर उनके दामाद सांसद कार्तिकेय भाजपा उम्मीदवार भव्य बिश्नोई के लिए वोट मांग रहे हैं।

प्रदेशाध्यक्ष का पद न मिलने से नाराज थे कुलदीप
हरियाणा कांग्रेस की पूर्व प्रदेशाध्यक्ष कुमारी सैलजा ने पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्‌डा के साथ तालमेल न बैठने के कारण पद से 9 अप्रैल 2022 को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को अपना इस्तीफा सौंप दिया था। हालांकि एक नाटकीय घटनाक्रम के बाद 27 अप्रैल को उनका इस्तीफा स्वीकार किया गया। Kartikeya Sharma seeking votes for Bhavya

Also check these links:

महिला चीनी जासूस गिरफ्तार, इस राज्य से हुई गिरफ्तारी

सिद्दू मूसेवाला हत्याकांड : एनआईए ने इस महिला प्लेबैक सिंगर से की पूछताछ

आदमपुर के राम रमी कार्यक्रम में कुलदीप बिश्नोई से बाजी मार गए भूपेंद्र हुड्डा!

हरियाणा : मासूम से दुष्कर्म कर हत्या करने के आरोपी पर पुलिस ने रखा 50 हजार का इनाम

26 अक्टूबर का राशिफल : इन राशि वालों को करना पड़ेगा आर्थिक परेशानी का सामना

राहुल गांधी से मिलने का नहीं मिला समय
कुलदीप बिश्नोई कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष की दौड़ में थे। हुड्‌डा भी अपने बेटे और राज्यसभा सांसद दीपेंद्र हुड्‌डा को प्रदेशाध्यक्ष बनाना चाहते थे, परंतु सांसद होने और खुद हुड्‌डा के नेता प्रतिपक्ष होना इसमें बाधा बन रहा था। इसके बाद एकाएक हुड्‌डा ने दलित नेता उदयभान का नाम हाईकमान के सामने रख दिया और कामयाब रहे।

इससे नाराज कुलदीप बिश्नोई ने राहुल गांधी से मिलने का समय मांगा, समय नहीं मिला। कुलदीप ने राज्यसभा चुनाव में अपना वोट अंतरात्मा की आवाज पर देने की बात कही और कांग्रेस उम्मीदवार अजय माकन की बजाए भाजपा समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार कार्तिकेय शर्मा को वोट दिया। जिस कारण अजय माकन चुनाव हार गए। इसके बाद कांग्रेस ने कुलदीप को वर्किंग कमेटी मेंबर के पद से हटा दिया।

हरियाणा राज्यसभा की 2 सीटों पर 3 उम्मीदवार थे। चुनाव में भाजपा उम्मीदवार कृष्ण पंवार की जीत तय थी, परंतु निर्दलीय उम्मीदवार कार्तिकेय शर्मा और कांग्रेस उम्मीदवार अजय माकन के बीच मुकाबला था। कुलदीप बिश्नोई ने निर्दलीय उम्मीदवार के समर्थन में क्रॉस वोटिंग कर दी। जबकि एक कांग्रेसी विधायक का वोट रद्द हो गया।

राज्यसभा चुनाव में 90 विधायक थे। एक वोट की वैल्यू 100 होती है। राज्यसभा चुनाव के फॉर्मूले अनुसार 1 वोट कांग्रेस का रद्द हो गया। निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू ने किसी को वोट नहीं दिया। 88 वोट काउंट होने के हिसाब से कृष्ण लाल पंवार को जीत के लिए 29.34 वोट चाहिए थे, लेकिन उन्हें 31 वोट मिले। उनके हिस्से में आए 1.67 वोट निर्दलीय कार्तिकेय शर्मा को चले गए। उन्हें कुल 29 वोट मिले थे, जबकि कांग्रेस का एक वोट रद्द हो जाने से माकन को भी 29 वोट मिले थे। इस हिसाब से पंवार को 2934 वैल्यू, कार्तिक को 2966 और माकन को 2900 वैल्यू मिली। जिसके आधार पर पंवार और कार्तिकेय को विजयी घोषित कर दिया गया।