Connect with us

Haryana

पूजन से पहले ये खबर जरूर पढ़े, जानिए लक्ष्मी पूजन का शुभ मुहूर्त विधि व मंत्र

Published

on

know the facts of laxmi pujan

know the facts of laxmi pujan

सत्य खबर, अयोध्या । आज दीपोत्सव का महापर्व दिवाली मनाई जा रही है। 5 दिनों तक चलने वाले इस पर्व की शुरुआत धनतेरस से होती है और पांचवें दिन गोवर्धन पूजा होती है। दिवाली पर कार्तिक अमावस्या के दिन लक्ष्मी पूजन का विधान होता है। इस दिन मां लक्ष्मी के साथ विध्नहर्ता भगवान गणेश,देवी सरस्वती और कुबेर देवता की पूजा होती है।

मां लक्ष्मी इन लोगों के घरों में कभी भी नहीं ठहरती हैं
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मां लक्ष्मी शरद पूर्णिमा और कार्तिक पूर्णिमा की तिथि पर धरती पर आती हैं और वहां रहने वाले सभी भक्तों की भक्ति से प्रसन्न होकर सुख-समृद्धि का आशीर्वाद प्रदान करती हैं। दिवाली की रात मां लक्ष्मी घर-घर जाती हैं, लेकिन वह उन घरों में कभी भी निवास नहीं करती हैं जहां पर इस तरह काम होते हैं।
माता लक्ष्मी ऐसे घरों में कभी वास नहीं करती हैं… know the facts of laxmi pujan

. जहां गंदगी और सामान बिखरा हुआ होले
. जहां स्त्रियों का अनादर हो
. जहां प्रतिदिन पूजा न होती हो
. जहां वास्तुदोष हो

इन घरों में होता है मां लक्ष्मी का सदैव वास…
मां लक्ष्मी करें आज आपके घर निवास फिर जरूर करें अपने जीवन में ये काम।
. जहां साफ-सफाई हो
. जहां प्रतिदिन पूजा-पाठ हो
. जहां महिलाओं का सम्मान हो
. जहां भगवान विष्णु,श्रीयंत्र और श्री सूक्त का पाठ हो

Also check these links:

पंचायत इलेक्शन में उत्तर प्रदेश की ईवीएम वापस, गुजरात से ईवीएम क्यों मंगाई गई?

24 अक्टूबर का राशिफल: इन राशि वालों की दिवाली होगी मंगलमय

पर्यावरण और स्वास्थ्य के लिए ग्रीन पटाखे चलाएं: विक्रम यादव।

मां लक्ष्मी के प्रिय भोग
आज दिवाली की शाम को मां लक्ष्मी और भगवान गणपति की पूजा विधि-विधान के साथ की जाएगी। लक्ष्मी जी के प्रसन्न होने पर व्यक्ति धनी,समृद्धिशाली और संपन्न हो जाता है। आज दिवाली की शाम को प्रदोष काल में मां लक्ष्मी की पूजा के दौरान भोग में इन चीजों का जरूर अर्पित करें। know the facts of laxmi pujan

. मखाना
. सिंघाड़ा
. बताशा
. गन्ना
. खीर
. हलवा
. अनार
. पान
. केसर
. सफेद -पीली मिठाई

दिवाली पर मां लक्ष्मी को कैसे करें प्रसन्न
दिवाली की शाम को लक्ष्मी पूजा में इन चीजों को करें शामिल…
. शंख
. कमल का फूल
. गोमती चक्र
. धनिया के दाने
. कच्चा सिंघाड़ा
. मोती
. कमलगट्टे का माला

दिवाली पूजन में इन मंत्रों का जरूर करें जाप
हिंदू धर्म में किसी पूजा-पाठ,व्रत और त्योहार में भगवान को प्रसन्न करने के लिए विधि विधान के साथ पूजा करना जरूरी होता है। शास्त्रों में हर एक देवी-देवता को प्रसन्न करने के लिए मंत्रों का जाप करना होता है नहीं तो पूजा अधूरी मानी जाती है। दिवाली पर मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए इन मंत्रों को जरूर करें जाप।

लक्ष्मी पूजन मंत्र
. ॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मीभयो नमः॥
. ॐ श्रीं श्रीयै नम:
. ॐ ह्रीं श्रीं लक्ष्मीभ्यो नमः॥
. ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नम:॥

आज शाम लक्ष्मी पूजन मुहूर्त
आज प्रभु राम के 14 वर्षों के वनवास पूरा होने और लंका पर विजय हासिल करने के बाद अयोध्या वापस आने की खुशी में देश में पूरे उत्साह के साथ दिवाली का त्योहार मनाया जा रहा है। दिवाली पर मां लक्ष्मी की पूजा होती है। आज कार्तिक अमावस्या पर चित्रा नक्षत्र, विष्कुंभ योग और स्थिर वृषभ लग्न में मां लक्ष्मी, भगवान गणेश, कुबेर देवता और अपने कुल देवता की पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 5 बजे के बाद शुरू हो जाएगा। दिवाली पर मां लक्ष्मी की पूजा हमेशा प्रदोष काल और स्थिर लग्न में करना शुभ माना गया है। मां लक्ष्मी की पूजा से व्यक्ति को उनका आशीर्वाद मिलता है जिससे उनके जीवन में कभी भी धन-दौलत और ऐशोआराम की कमी नहीं होती है। know the facts of laxmi pujan

यहां देखें आज दिवाली पर लक्ष्मी पूजन के सभी मुहूर्त
कार्तिक अमावस्या तिथि आरंभ: 24 अक्टूबर, 2022 को शाम 05 बजकर 29 मिनट से।
कार्तिक अमावस्या तिथि समाप्त: 25 अक्टूबर 2022 को शाम 04 बजकर 20 मिनट पर।

अमावस्या निशिता काल: 11 बजकर 39 से 00:31 तक।

कार्तिक अमावस्या सिंह लग्न का समय: रात 01:26 से 03:44 बजे।

अभिजीत मुहूर्त का समय: सुबह 11:19 बजे से दोपहर 12:05 बजे तक है।

विजय मुहूर्त आरंभ: 24 अक्टूबर को 01:36 से 02:21 तक।

दिवाली 2022: लक्ष्मी पूजा का समय और मुहूर्त

लक्ष्मी पूजन का मुहूर्त: 18:54 से 20:16 मिनट तक

पूजा अवधि: 1 घंटा 21 मिनट

प्रदोष काल: 17:43 से 20:16 मिनट तक
वृषभ काल: 18:54 से 20:50 मिनट तक

दिवाली 2022 महानिशिता काल मुहूर्त

लक्ष्मी पूजन का मुहूर्त: 23:40 से 24:31 मिनट तक

पूजा अवधि: 0 घंटे 50 मिनट

महानिशीथ काल: 23:40 से 24:31 मिनट तक
सिंह काल: 25:26:25 से 27:44:05 तक

दीपावली शुभ चौघड़िया मुहूर्त
संध्या मुहूर्त (अमृत, चर): 17:29 से 19:18 मिनट तक
रात्रि मुहूर्त (लाभ): 22:29 से 24:05 मिन तक
रात्रि मुहूर्त (शुभ, अमृत,चल): 25:41:06 से 30:27:51

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *