Connect with us

NATIONAL

चक्रवर्ती तूफान ने इस राज्य में मचाया कहर

Published

on

Cyclone Cyclone created havoc in this state

Cyclone Cyclone created havoc in this state

सत्य खबर , नई दिल्ली। चक्रवाती तूफान ‘मैंडूस’ के तमिलनाडु के तट के करीब पहुंचने के कारण उत्तर तटीय तमिलनाडु के कई हिस्सों में शुक्रवार को हल्की से मध्यम बारिश हुई और कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुईCyclone Cyclone created havoc in this state

मामल्लापुरम तट को पार करने वाला चक्रवाती तूफान ‘मैंडूस’ गहरे दबाव के क्षेत्र में तब्दील होकर कमजोर हो गया है. हालांकि इस तूफान ने शहर और इसके आसपास के इलाकों में काफी नुकसान पहुंचाया है. चक्रवात की वजह से कई इलाकों में विशाल पेड़ उखड़ गए. चेन्नई के एग्मोर इलाके में तेज हवाओं के कारण एक बड़ा पेड़ जड़ से उखड़ गया.

वृहद चेन्नई निगम समेत विभिन्न निकाय एजेंसी गिरे हुए पेड़ों को हटाने में लगी रहीं. शहर में और आसपास के इलाकों में चक्रवात के प्रभास से बिजली भी गुल है. तमिलनाडु के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री केकेएसएसआर रामचंद्रन ने कहा कि उम्मीद के मुताबिक कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है. हालांकि 9000 से ज्यादा लोगों को 205 रिलीफ कैंपों में रखा गया है.

चक्रवात की वजह से शुक्रवार सुबह 6 बजे से आज सुबह 6 बजे के बीच कुल 30 घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द कर दी गईं. आज सुबह कुछ देर के लिए एयरपोर्ट के रनवे को भी बंद कर दिया गया. इसके अलावा, चेन्नई से रवाना होने वाली 9 उड़ानों को रद्द किया गया. जबकि यहां आने वाली 21 उड़ानों का मार्ग दूसरे शहरों की ओर बदल दिया गया.

Also check these links:

पाकिस्तानी दूल्हे ने दुल्हन को गिफ्ट किया 30 हजार का गधा! जानिए क्यों?

इलेक्ट्रॉनिक आइटम के साथ क्यों आती है एक छोटी सी पुड़िया, है बड़े काम की चीज!

गुरुग्राम सरपंच एसोसिएशन के अध्यक्ष के साथ अलीमूदीन के नवनियुक्त सरपंच ने की विधायक से भेंट

पत्नी ने रात में दूसरी बार सेक्स करने से किया मना तो ले ली जान… जानिए कहां का है मामला

चक्रवाती तूफान की वजह से चेन्नई के टी नगर इलाके में एक दीवार गिरने के कारण उसके पास खड़ी 3 कारें क्षतिग्रस्त हो गईं. गनीमत यह रही कि घटना के वक्त कारों में कोई मौजूद नहीं था. वहीं, पुलिस ने बताया कि शहर के अलग-अलग हिस्सों में करीब 100 पेड़ उखड़ गए हैं और पांच स्थानों पर बिजली के खंभे गिर गए हैं.

तमिलनाडु के मामल्लपुरम तट पर चक्रवाती तूफान ‘मैंडूस’ के दस्तक देने के बाद आंध्र प्रदेश के दक्षिण तटीय और रायलसीमा जिलों के कई हिस्सों में शनिवार सुबह भारी बारिश हुई. आंध्र प्रदेश सरकार की स्थिति रिपोर्ट के मुताबिक, शनिवार सुबह साढ़े आठ बजे तक बीते 24 घंटे में तिरुपति जिले के नैदुपेटा में सबसे ज्यादा 281.5 मिलीमीटर बारिश हुई.

सरकार की रिपोर्ट के अनुसार, छोटी नदियों-कांदलेरु, मानेरु और स्वर्णमुकी में अचानक बाढ़ आने की आशंका के कारण एसपीएसआर नेल्लोर और तिरुपति जिलों को सतर्क किया गया है. चार जिलों में राज्य आपदा मोचन बल के 150 कर्मियों और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के 95 कर्मियों को तैनात किया गया है.

आईएमडी-क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के प्रमुख एस. बालाचंद्रन ने बताया कि चेन्नई और पुडुचेरी के बीच 1891 से 2021 तक पिछले 130 सालों में 12 चक्रवात आ चुके हैं. इस साल का मैंडूस चक्रवात 13वां चक्रवात है, जिसने मामल्लपुरम तट (चेन्नई और पुडुचेरी के बीच) को पार किया.

चक्रवाती तूफान के कारण तमिलनाडु के कई इलाकों में शुक्रवार को भारी बारिश हुई. नुंगमबक्कम में रिकॉर्ड सात सेंटीमीटर बारिश हुई. जबकि चेंगलपेट और नागपट्टिनम सहित अन्य तटीय क्षेत्रों में रुक-रुक कर हल्की से मध्यम (तीन सेमी तक) स्तर की बारिश हुई. तूफान की वजह से कई क्षेत्रों में जलभराव के कारण बस सेवाओं में बाधा पैदा हुई. कई जिलों में स्कूल और कॉलेज भी बंद रहे.Cyclone Cyclone created havoc in this state

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *