Connect with us

Haryana

आक्रामक हुए सांड ने छीन ली एक और जिंदगी, पैदल ही कंपनी में जा रहे आगरा के युवक को सांड ने सींगों से हमला कर मार डाला

Published

on

सत्य खबर रेवाड़ी

जिले में सड़कों पर बेसहारा घूमते गोवंश बड़ी मुसीबत बन गए हैं। बुधवार को आक्रामक हुए एक सांड ने एक और जिंदगी छीन ली। गांव पातुहेडा से पैदल ही ड्यूटी पर कंपनी में जा रहे एक कर्मचारी पर सांड ने हमला कर दिया। सींगों से उठाकर कई बार पटके जाने और टक्कर मारने से युवक की मौके पर ही मौत हो गई। जिले में 20 दिन के अंदर यह तीसरी घटना है, जिसमें सांडों के हमले से किसी को जान गंवानी पड़ी है।

गोवंश का सड़कों पर घूमना जानलेवा होने के चलते लोगों में रोष है। लोग प्रशासन से जिले में बड़े स्तर पर मुहिम चलाते हुए स्थाई समाधान की मांग कर रहे हैं। यदि समाधान नहीं हुआ तो एक बार फिर आंदोलन की चेतावनी दी जा रही है। साथ ही युवक की मौत मामले में एफआईआर दर्ज किए जाने की भी मांग उठाई है। अधिवक्ता सुनील भार्गव का कहना है कि मामले में एफआईआर होनी चाहिए, ताकि मृतक के परिवार को न्याय मिल सके।

फोन पर पत्नी से बात करता चल रहा था युवक

उत्तर प्रदेश के आगरा जिला का रहने वाला गुलकेश बावल औद्योगिक क्षेत्र स्थित लुमेक्स कंपनी में काम करता था। उसने कंपनी से करीब 500 मीटर दूर ही स्थित गांव पातुहेड़ा में कमरा किराये पर लिया हुआ था। बुधवार सुबह करीब 7 बजे गुलकेश अपने कमरे से पैदल ही कंपनी में ड्यूटी पर जा रहा था। इसी दौरान उसके घर से फोन आया हुआ था। बताया जा रहा है कि वह अपनी पत्नी से बात करते हुए चल रहा था। इसी दौरान अचानक ही एक सांड ने उस पर हमला कर दिया। सांड इतना आक्रामक हो गया कि गुलकेश को कई बार उठा-उठाकर जमीन पर पटका। स्थानीय लोगों ने जैसे तैसे गुलकेश को सांड से छुड़ाया। मगर अधिक चोटों के चलते गुलकेश घायल हालत में बेसुध होकर जमीन पर गिर गया। लोगों ने उसे अस्पताल पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। कसौला थाना से जांचकर्ता एचसी सुनील कुमार ने बताया कि परिजनों ने सांड से मृत्यु की दरख्वास्त दी है। हमने 174 की कार्रवाई कर शव परिजनों को सौंप दिया है।

रोहतक में व्यापारियों के बीच घमासान, दो धडों में बंटे व्यापारी

3 जिंदगियां गंवाई- संजय, राहुल के बाद अब गुलकेश बना शिकार

जिले में गोवंश के अचानक ही हिंसक होने के चलते लोगों की जिंदगी खतरे में पड़ रही है। महज 20 दिन के अंदर तीन युवकों की मौत हुई है, जिसका गोवंश कारण रहे। तीनों ही मृतकों की उम्र 40 वर्ष से कम थी। इनमें पहली घटना 12 अगस्त को शहर के ठठेरा चौक पर हुई। दौड़ते हुए सांड ने स्कूटी सवार फोटोग्राफर संजय उर्फ डॉली को सीधी टक्कर मार दी थी, जिससे उसकी मौत हो गई। दूसरी घटना बावल रोड पर हुई, जिसमें ऑटो से सांड की टक्कर के चलते अलवर जिला के रहने वाले राहुल की जान चली गई थी। अब गुलेशन को जान गंवानी पड़ी है।

पवन का अब तक चल रहा इलाज

गोवंश के हमले से कई लोग घायल हो चुके हैं। अगस्त में ही 6 वर्षीय बच्ची पर जानलेवा हमला कर दिया था। कई लोग की मुश्किल से जान बची है। इन्हीं में गांव झाल निवासी पवन हैं। जिन्हें गोवंश ने घायल कर दिया था। जिला उपप्रमुख जगफूल यादव का कहना है कि युवक का अभी तक प्राइवेट अस्पताल से इलाज चल रहा है।

शहर, गांव, हाईवे सब जगह पशु

समस्या इसलिए भी है कि शहर से गांवों तक की सड़कों पर बड़ी संख्या में पशु नजर आ रहे हैं। शहर के अंदर सरकुलर रोड पर कई जगह पशु का झुंड नजर आ जाएगा। ज्यादातर फ्लाईओवर पर भी गोवंश बैठे मिलते हैं। हाईवे और मुख्य सड़कों के डिवाइडरों के साथ बेसहारा पशु बैठे या फिर खड़े रहते हैं। इनसे गाड़ियां दुर्घटनाग्रस्त हो जाती हैं। इनकी तो लोग थानों में भी शिकायत नहीं देते।

गुड़गांव की तर्ज पर निजी सहयोग लेंगे : दिनेश सिंह

जिला पालिका आयुक्त दिनेश सिंह का कहना है कि गोवंश अधिक संख्या में है। अब गोशालाओं में भी और अधिक गोवंश को संभाल पाने में असमर्थता जताई है। इसलिए गुड़गांव की तर्ज पर निजी संस्थाओं के सहयोग से इनका समाधान निकल सकता है। वहां ट्रस्ट के माध्यम से गोसेवा का काम हो रहा है।

नाहड़ जंगल की तार-बाड़ से पशु सड़क पर : जगफूल

उप जिला प्रमुख जगफूल यादव का कहना है कि हाल ही में गांव झाल निवासी पवन को गोवंश ने बुरी तरह घायल कर दिया था। इसके बाद वे ग्रामीणों से मिले तेा उन्होंने बताया कि 300 एकड़ में नाहड़ जंगल की तार बाड़ किए जाने से गोवंश इसमें प्रवेश नहीं कर पा रहा। जो कि अब कोसली-महेंद्रगढ़ सड़क पर आकर बैठ जाते हैं। हमेशा हादसों का खतरा बना रहता है।

2 Comments