Connect with us

Politics

कांग्रेस को राज्यपाल द्वारा समय न दिए जाने पर बोली भुक्कल कहा: राज्यपाल का पद केवल खर्चा बढ़ाने वाला

Published

on

सत्यखबर

पिछले दिनों कांग्रेस पार्टी द्वारा बार-बार महामहिम राज्यपाल से समय मांगने के बावजूद भी राज्यपाल महोदय द्वारा कांग्रेस पार्टी को मूलाकात का समय न दिए जाने पर पूर्व शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल शनिवार को काफी उग्र नजर आई। यहां अपने निवास स्थान पर मीडिया के रूबरू हुई भुक्कल ने कहा कि महामहिम राज्यपाल का पद पक्ष व विपक्ष दोनों की सुनने के लिए होता है। सभी को पता है कि महामहिम राज्यपाल प्रतिनिधि तो केन्द्र सरकार के होते है,लेकिन उनकी जिम्मेवारी प्रदेश की होती है।

राकेश टिकैत का सरकार पर जुबानी वार, चिंता न करो सारी किले निकाल कर घर जाएंगे

परन्तु संवैधानिक पदों पर बैठे लोग इस बात को नहीं समझ पाते कि उनकी जिम्मेवारी क्या है। जो हालात है उससे तो लगता यहीं है कि राज्यपाल का पद केवल और केवल खर्चा बढ़ाने वाला ही है जोकि खत्म होना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि महामहिम को पक्ष व विपक्ष में सामजस्य बनाकर दोनों की बात सुननी चाहिए। किसानों के चक्का जाम पर भी बोलते हुए पूर्व शिक्षा मंत्री ने कहा कि किसानों ने शनिवार को शांतिप्रिय ढंग से ही प्रदेश में चक्का जाम किया है। लेकिन सरकार को तुरन्त प्रभाव से किसानों से उनकी समस्या को लेकर बात करनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि चक्का जाम के दौरान भी सरकार किसानों को गणतंत्र दिवस की भांति बदनाम करना चाहती थी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। किसानों ने बड़े शांतिप्रिय ढंग से चक्का जाम को सफल बनाया। उन्होंने यह भी कहा कि सरकार को तुरन्त प्रभाव से किसान संगठनों से उनकी समस्या को लेकर बात करनी चाहिए। अभी भी समय है कि सरकार भाषणबाजी छोड़कर किसानों की समस्या का हल