Connect with us

Haryana

कैथल रोड़ के जख्मों की मरहम पट्टी का काम शुरू

निसिंग, सोहन बीते कई वर्षो से सरकार व विभाग की अनदेखी का शिकार बने कैथल रोड़ के जख्मी की मरहम पट्टी का काम शुरू हो गया है। नर्दक नहर से निसिंग तक टूटी सडक़ के गड्डों को पत्थर की लेयर से भरा जा रहा है। ताकि सडक़ के गहरों गड्डों में जमा पानी से प्रभावित वाहनों […]

Published

on

निसिंग, सोहन
बीते कई वर्षो से सरकार व विभाग की अनदेखी का शिकार बने कैथल रोड़ के जख्मी की मरहम पट्टी का काम शुरू हो गया है। नर्दक नहर से निसिंग तक टूटी सडक़ के गड्डों को पत्थर की लेयर से भरा जा रहा है। ताकि सडक़ के गहरों गड्डों में जमा पानी से प्रभावित वाहनों का आवागमन दुरूस्त किया जा सके। कई जगह पर कैथल रोड़ इस कदर टूटा हुआ है, जिसपर हिचकोले लेते चालकों को लगता है कि वह किसी खराब कच्चे रास्ते से गुजर रहे है। बीते दिनों दैनिक जागरण ने समस्या को प्रमुख्ता से प्रकाशित किया था। जिसके परिणाम स्वरूपसडक़ पर काम शुरू हो सका। वाहन चालक राजेश कुमार, विक्रम सिंह, बबलू, संजीव कुमार, यशकरण सिंह, प्रदीप कुमार, विजय कुमार, सुरजीत सिंह, सुनील कुमार, महेंद्र सिंह व शमशेर सिंह सहित अन्य का कहना था कि  बीते दो वर्षो से बदहाल सडक़ पर उनके वाहन क्षतिग्रस्त हो रहे थे। गड्डोयुक्त सडक़ पर कछुआ चाल चलना से समय व तेल दोनों का नुकसान होता था। वहीं गड्डों में वाहन खटारा बन रहे थे। जिस कारण क्षेत्रीय लोग अक्सर दूसरे रास्तों से आवागमन करने पर मजबूर है। मानसूनी मौसम में धान के खेतों का पानी सूख गया, लेकिन सडक़ के गड्डों का पानी नही सूख पाया। सडक़ से दिनभर हजारों वाहन गुजरते है। बावजूद भी सडक़ को अनदेखी का शिकार बनाकर आमजन को परेशान किया गया। प्रशासनिक अधिकारियों को बदहाल सडक़ के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ उचित कार्यवाही करते हुए सडक़ को शीघ्र दुरूस्त करने की मांग की है। हांलाकि सडक़ को दुरूस्त करने का काम युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। जिससे महज दो दिनों में टूटी सडक़ पर पत्थर डालने का काम पूरा कर लिया जाऐगा। इस संबंध में विभाग के जेईई राजकुमार का कहना था कि सडक़ पर तारकोल बजरी डालने के बारें में विभाग के एक्सईएन बता सकते है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *