Connect with us

Gurugram

निजी स्कूल में बाउंसरो का कब्जा, मैनेजमेंट की लड़ाई में विवादित बना निजी स्कूल

सत्यखबर, गुरुग्राम(आकाश खुराना) गुरुग्राम के इस निजी स्कूल में गेट पर ताला लगाकर खड़े बाउंसर्स की हिम्मत देखिये कि इन्होने टीचिंग स्टाफ व् एडमिशन के लिए पहुचे विद्यार्थियो व् उनके अभिभावकों को स्कूल के बाहर ही रोक दिया है और ना तो टीचिंग स्टाफ व् ना ही एडमिशन लेने वाले बच्चो व् उनके अभिभावकों को […]

Published

on

सत्यखबर, गुरुग्राम(आकाश खुराना)

गुरुग्राम के इस निजी स्कूल में गेट पर ताला लगाकर खड़े बाउंसर्स की हिम्मत देखिये कि इन्होने टीचिंग स्टाफ व् एडमिशन के लिए पहुचे विद्यार्थियो व् उनके अभिभावकों को स्कूल के बाहर ही रोक दिया है और ना तो टीचिंग स्टाफ व् ना ही एडमिशन लेने वाले बच्चो व् उनके अभिभावकों को अंदर जाने दे रहे | हालात यह है कि परेशान विद्याथी व् टीचिंग स्टाफ अंदर दाखिल नही हो पा रहा और इस मामले में ना तो गुरुग्राम पुलिस दखलंदाजी कर रही है और ना ही जिला प्रशासन | यह पूरा विवाद स्कूल प्रबंधन से जुडा है…दरअसल गुरुग्राम के न्यू कालोनी इलाके में स्थित देव समाज नामक निजी स्कूल प्रबंधन ने कुछ महीनों पहले स्कूल में पहले कार्य कर चुकी पूर्व प्रिंसिपल व् पूर्व मैनेजर संगीता शर्मा को पद से हटाकर इन दोनों की जगह नई नियुक्तिया कर दी थी लेकिन इन दोनों ने मामले को कोर्ट में पहुचा दिया | कोर्ट का अभी भी इस मामले में फैसला नही आया लेकिन स्कूल पर कब्जे को लेकर प्रबंधन के पक्ष में बन चुके गुट व् पूर्व मैनेजर संगीता शर्मा के पक्ष में बन चुके गुटों के बीच अक्सर इस तरह के विवाद सामने आ जाते है और इनका खामियाजा भुगत रहे है यहा पढ़ने वाले विद्यार्थी व् उनके अभिभावक |  वन्ही स्कूल में कार्यरत मौजूदा मैनेजर व् अध्यापको की माने तो अब विद्यार्थियो का नई कक्षाओं में प्रवेश का समय है लेकिन ऐसे समय में पूर्व मैनेजर द्वारा स्कूल की सुरक्षा में तैनात निजी सुरक्षा गार्डो को जबरन हटाकर यहा बाउंसर तैनात कर दिए है जिससे विद्याथी व् अभिभावक स्कूल के अंदर दाखिल नही हो पा रहे है और दाखिले से वंचित है | स्कूल में कब्जे को लेकर जंहा दोनों गुट अपना अपना हित देख रहे है वन्ही इस सबके बीच पिस रहे है यहा के विद्यार्थी जिनका भविष्य अंधकारमय हो रहा है | ऐसे में जरूरत है पुलिस विभाग व् जिला प्रशासन को संयुक्त रूप से मिलकर स्कूल के बारे में ठोस निर्णय लेने की ताकि यहा विद्या ग्रहण करने वाले विद्यार्थियों का भविष्य सुरक्षित किया जा सके |

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *