Connect with us

Punjab

प्रशांत किशोर पर पंजाब सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह का खंडन- टिकट बंटवारे में नहीं रहेगी कोई भूमिका

Published

on

सत्य खबर

पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने एक मार्च को चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर को अपना प्रधान सलाहाकार नियुक्त किया था। इसके बाद किशोर ने विधायकों के साथ एक मीटिंग की थी और कयास लगाए जाने लगे थे कि वह आगामी विधानसभा में बड़ा रोल अदा करने वाले हैं।

इसको लेकर सीएम अमरिंदर सिंह ने स्थिति साफ कर दी और कहा है कि पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 के लिए कांग्रेस के टिकटों को अंतिम रूप देने में प्रशांत किशोर की कोई भूमिका नहीं है. मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने यह बात पार्टी के भीतर चल रही नाराजगी को शांत करने को लेकर कही है। अगले साल विधानसभा चुनाव में टिकटों पर निर्णय लेने की अटकलों को अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘इसका कोई सवाल ही नहीं है।

किशोर ने इस मामले में कोई बात नहीं कही है. मेरे मुख्य सलाहकार के रूप में उनकी भूमिका सीमित है। उनका काम केवल सलाह देना ही है, निर्णय लेने का कोई भी अधिकार उनके पास नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में टिकट आवंटन के लिए निर्धारित मानक और पैटर्न हैं, जिनका सभी राज्यों में सभी चुनावों में पालन किया जाता है और पंजाब कोई अपवाद नहीं है।

यह भी पढें:- लघु सचिवालय में मनाई गई अम्बेडकर जयंती, प्रतिमा पर अर्पित किए पुष्प

किसी भी विधानस भा चुनाव से पहले आलाकमान द्वारा गठित एक राज्य चुनाव समिति है, जो सभी नामों पर विचार करती है और अंतिम उम्मीदवारों पर फैसला करती है। अमरिंदर ने कहा, शॉर्ट लिस्ट किए गए नामों को स्क्रीनिंग कमेटी के पास जांच के लिए भेजा जाता है, जिसमें शीर्ष नेतृत्व में शामिल कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष हैं। उन्होंने कहा कि अंतिम निर्णय केंद्रीय चुनाव समिति द्वारा लिया जाता है, जिसमें किसी भी व्यक्ति की कोई भूमिका नहीं होती है।