Connect with us

Fatehabad

फतेहाबाद में शुरु हुई कर्नाटक जैसी चंदन की खेती, जिला डीसी ने किया चंदन की खेती का निरीक्षण

Published

on

फतेहाबाद

जहां एक तरफ देश के अन्नदाताओं के लिए पारंपरिक खेती घाटे का सौदा साबित हो रही है.तो वहीं दूसरी तरफ फतेहाबाद में एक ऐसा किसान भी है .जिसने हरियाणा में पहला सफल चंदन की खेती का प्लांट लगाया है.जिसमें करोड़ों के मुनाफे का अनुमान लगाया जा रहा है.

हरियाणा किसान यूनियन किसान आंदोलन पर बनाएगी डॉक्यूमेंट्री व हरियाणा में निकेलगी किसान जाग्रति यात्रा

 किसान सुरेंद्र कुमार की.जिसने दो एकड़ में चंदन के पौधे लगाए हुए हैं.जिला डीसी ने भी गांव में पहुंचकर किसान के द्वारा की गई चंदन की खेती का निरिक्षण किया.और डीसी ने किसान की वैक्लपिक खेती को लेकर किए इन प्रयासों की सरहाना की.
वहीं किसान ने बताया कि उसने दो एकड़ में करीब 320 पौधे लगाए हैं.जो 6 से 16 हजार रुपये प्रति किलो के हिसाब से चंदन की लकड़ी बिकती है.और 10 साल बाद चंदन के एक पेड़ से एक लाख रुपये की कमाई होती है.यानि के एक एकड़ में तीन से चार करोड़ रुपये की कमाई होगी.
डीसी ने बताया कि चंदन की खेती के लिए प्रति एकड़ करीब 4 लाख रुपये का खर्च हुआ है और 10 साल बाद प्रति एकड़ करीब 1 करोड़ रुपये की आमदन चंदन की इस खेती से किसान को होगी.
बहराल किसान सुरेंद्र की माने तो चंदन के ये पौधे कर्नाटक के मैसूर से हिमाचल लाए गए थे.और हिमाचल से उनके एक दोस्त की मदद से गांव में लाए गए.जिसके बाद कृषि विभाग से रिटायर्ड एसडीओ की मदद से चंदन की खेती शुरु हुई.10 साल में ये पौधे पूरी तरीके से कटाई के लिए तैयार हो जाएंगे…और कटाई के बाद इन पेड़ों से प्रति एकड़ करोड़ों का मुनाफा किया जा सकता है.