Connect with us

Haryana

मलार गांव में पंचायती कृषि योग्य भूमि पर अवैध कब्जों का मामला

सत्यखबर सफीदों (महाबीर मित्तल) – सफीदों उपमंडल के गांव मलार में कृषि योग्य भूमि पर अवैध कब्जों का मामला गहरा गया है। ग्रामीणों ने अवैध कब्जों को हटवाने के लिए सीएम विंडों में शिकायत देकर गुहार लगाई है। शिकायतकर्ता दयानंद व अन्य ग्रामीणों का कहना है कि गांव की पंचायती कृषि योग्य करीब 4 एकड़ […]

Published

on

सत्यखबर सफीदों (महाबीर मित्तल) – सफीदों उपमंडल के गांव मलार में कृषि योग्य भूमि पर अवैध कब्जों का मामला गहरा गया है। ग्रामीणों ने अवैध कब्जों को हटवाने के लिए सीएम विंडों में शिकायत देकर गुहार लगाई है। शिकायतकर्ता दयानंद व अन्य ग्रामीणों का कहना है कि गांव की पंचायती कृषि योग्य करीब 4 एकड़ जमीन पर गांव के कुछ व्यक्तियों ने नाजायज कब्जा किया हुआ है। पंचायत ने उक्त जमीन को खाली करवाने के लिए जून 2017 में निशानदेही करवाई थी लेकिन पंचायत ने निशानदेही के बाद जमीन को खाली कराने के लिए कोई ठोस कार्रवाई नहीं की।

इस भूमि पर अवैध कब्जे के कारण गांव के अन्य लोग भी अन्य भूमि पर कब्जा करने के फिराक में है और इन अवैध कब्जों के कारण गांव में तनाव बना हुआ है। शिकायतकत्र्ता दयाचंद ने जानकारी देते हुए बताया कि इन कब्जों को लेकर उसने ग्राम पंचायत से सूचना के अधिकार नियम के तहत जानकारी प्राप्त की थी। उसे दी गई जानकारी में पंचायत ने स्वंय माना है कि पंचायती जमीन पर कुछ लोगों ने अवैध कब्जे किए हुए हैं। जानकारी में उसे बताया गया कि अवैध कब्जों को लेकर ग्राम पंचायत की कृषि योग्य भूमि की निशानदेही 27 जून 2017 को करवाई गई थी।

इस निशानदेही की रिपोर्ट लगभग 5 महीनों के बाद कानूनगो से 7 नवम्बर 2017 को प्राप्त हुई थी। निशानदेही के उपरांत कब्जाधारियों को ग्राम पंचायत द्वारा नोटिस दिया गया। नोटिस देने के बाद कब्जाधारकों ने इस निशानदेही को गलत बताते हुए स्वयं दोबारा से निशानदेही करवाने की बात कही थी लेकिन कब्जेधारियों द्वारा कोई निशानदेही नहीं करवाई गई। जानकारी में बताया गया कि कब्जा छुड़वाने बारे बीडीपीओ सफीदों को दिनांक 6 जून 2018 को पंचायत के रेगुलेशन द्वारा अवगत करवा दिया गया तथा 15 जून 2018 को बीडीपीओ सफीदों ने कब्जा छुड़वाने के लिए एसडीएम सफीदों को अवगत करवाया।

शिकायतकत्र्ता दयाचंद ने बताया कि इन कब्जों को खाली करवाने में प्रशासनिक तौर पर भारी ढील बरती जा रही है। उन्होंने मांग की कि इस कब्जों को तत्काल प्रभाव से खाली करवाया जाए।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *