Connect with us

Haryana

वाटर सेफ्टी प्लानिंग के तहत कौथल खुर्द में किया पौधारोपण

  वाटर हार्वेस्टिंग से जलस्तर को नीचे जाने से रोकना ग्राम पंचायत का विशेष कार्य: मंगतुराम सरसवा सत्यखबर, महेंद्रगढ़ (मुन्ना लाम्बा) जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के जल एवं सवच्छता सहायक संगठन द्वारा शुक्रवार को जिला के गांव कौथल खुर्द के सरपंच परमजीत के साथ गांव का वाटर सेफ्टी प्लानिंग के तहत निरीक्षण किया। जिला सलाहाकार […]

Published

on

 

वाटर हार्वेस्टिंग से जलस्तर को नीचे जाने से रोकना ग्राम पंचायत का विशेष कार्य: मंगतुराम सरसवा

सत्यखबर, महेंद्रगढ़ (मुन्ना लाम्बा)

जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के जल एवं सवच्छता सहायक संगठन द्वारा शुक्रवार को जिला के गांव कौथल खुर्द के सरपंच परमजीत के साथ गांव का वाटर सेफ्टी प्लानिंग के तहत निरीक्षण किया। जिला सलाहाकार मंगतुराम सरसवा की अगुवाई में किए गए इस निरीक्षण के तहत गांव के सभी घरों के नलों पर टूंटियों को चैक करने के साथ-साथ वैध पेयजल कनेक्शनों की भी जांच की गई। गौरतलब है कि कौथल खुर्द की ग्राम पंचायत ने जल संरक्षण में विशेष कार्य करने पर जन स्वास्थ्य विभाग की ओर से जिला प्रशासन की तरफ से स्वतंत्रता दिवस 2018 को जल संरक्षण पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था।

जिला सलाहकार मंगतुराम सरसवा ने बताया कि वॉसो की टीम के सहयोग से पानी की बर्बादी को रोकने में अहम भूमिका निभाने व वाटर हार्वेस्टिंग से जलस्तर को नीचे जाने से बचाने के लिए ग्राम पंचायत ने गांव में विशेष कार्य किया है। गांव के पुराने जोहड़ों को भी जिंदा करने तथा हर घर तक स्वच्छ जल पहुंचाने का कार्य भी किया है। उन्होंने बताया कि खंड महेन्द्रगढ़ की इस ग्राम पंचायत को गत वर्ष वॉटर सेफ्टी प्लानिंग के तहत चयन किया गया था। जिसका मुख्य उद्देश्य कैचमैंट से कंज्यूमर तक स्वच्छ जल मुहैया करवाना व पीने के पानी के सैफ तरीकों को अपना है ताकि पानी की वजह से कोई बीमार ना हो, गांव में गंदगी ना फैले तथा प्रत्येक व्यक्ति को बराबर मात्रा में पानी मिल सके। इसी के तहत फरवरी 2017 में ग्राम पंचायत कौथल खुर्द को जन स्वास्थ्य विभाग व जल एवं स्वच्छता सहायक संगठन, हरियाणा हैडऑफिस की तरफ से स्पेशल प्रशिक्षण भी दिया गया था।

इस अवसर पर सरपंच परमजीत ने बताया कि वॉसो की टीम के सहयोग से गांव में जल की बर्बादी भी रूकी है व ग्रामीणों की सहभागिता से गांव साफ-सुथरा बन गया है। इसी के चलते आज वॉसो टीम द्वारा वाटर सेफ्टी प्लानिंग के तहत गांव के जोहड़ के किनारों पर पौधारोपण किया ताकि गांव में हरियाली बनी रहे। उन्होंने बताया कि पेड़-पौधे होंगे तभी पानी होगा। यही ध्यान में रखते हुए गांव में पौधारोपण भी किया व कई वर्षों से सूखे पड़े जोहड़ में भी पानी आया है। गांव के तीन कोनों पर पानी की निकासी है। जोहड़ों की खुदाई करके उनमें पानी का ठहराव भी हुआ है। इसका यह परिणाम हुआ की भूमिगत जल रिचार्ज होने से गांव कौथल खुर्द का जलस्तर घटने की बजाय बढ़ा है। इस मौके पर बीआरसी विक्रम सिंह, अनिता, इंद्रजीत, मंजू यादव, मनिषा यादव, दिनेश वर्मा सहित ग्रामीण मौजूद रहे।

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *