Connect with us

Haryana

शहरी निकाय मंत्री के आदेश हवा हवाई

सफाई अभियान कागजों में ही सिमटता सत्यखबर, नांगल चौधरी (रामपाल फौजी) – एक ओर नगर पालिका द्वारा शहरी निकाय मंत्री कविता जैन के आदेश पर शहर के विभिन्न स्थानों पर सफाई अभियान चलाकर लोगों को स्वच्छता का दिखावा किया जा रहा है तो दूसरी ओर शहर के कई स्थानों पर आज भी गंदगी के ढेर […]

Published

on

सफाई अभियान कागजों में ही सिमटता

सत्यखबर, नांगल चौधरी (रामपाल फौजी) – एक ओर नगर पालिका द्वारा शहरी निकाय मंत्री कविता जैन के आदेश पर शहर के विभिन्न स्थानों पर सफाई अभियान चलाकर लोगों को स्वच्छता का दिखावा किया जा रहा है तो दूसरी ओर शहर के कई स्थानों पर आज भी गंदगी के ढेर लगे पड़े हैं। उक्त स्थानों पर पालिका के सफाईकर्मी पहुंचते ही नहीं है। नगर पालिक द्वारा चलाया गया सफाई अभियान अब कागजों में ही सिमटता नजर आ रहा है। शहर के मेन बस स्टैंड से से निजामपुर को जाने वाले सड़क मार्ग के साथ गंदे पानी की निकासी के लिए बनाया गया नाला गंदगी से अटा पड़ा है।

उक्तनाले से निकलने वाली बदवू के कारण यहां रहने वाले लोगों का जीना दूभर हो गया है। लोगों द्वारा इस मामले की शिकायत वार्ड पार्षद से लेकर पालिका के अधिकारियों तक कर चुके हैं लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो सका है। हालांकि नगर पालिक द्वारा सरकार के आदेश पर वार्ड स्तर पर स्वच्छता का संदेश देने के लिए आए दिन सफाई अभियान चलाया जाता है। अधिकारी मौके पर सेल्फियां लेते है लेकिन शहर की अधिकांश नालियां व गलियां गंदगी से अटी पडी हैं और गन्दगी सड़को पर बिखरी हुई हवा के साथ उड़ती रहिती है ओर जो अधिकारी सेल्फी भेज कार्यवाही दिखा रहे उन्ही के ऑफिस के बगल में रखे ये कचरा पात्र जो आज तक खाली होने का इंतजार कर रहे है ।

क्या कहते हैं सचिव महोदय
इस पूरे मामले को लेकर जब हमारी टीम नगर पालिका कार्यलय पहुची तो चेयरमैन सहित सभी जिमेदार अधिकारी व पार्षद नदारद मिले हालांकि सेकेट्री थोड़ी देर बाद हमे सड़क पर खड़े नजर आए। जब उनसे बात की गई कि मंत्री के आदेश के बावजूद कोई पार्षद या चेयरमैन साथ नही है क्या ऐसे में ये मुहिम सिरे चढ़ पाएगी तो आप खुद सुन लीजिये साहब किस तरह से बचाव कर रहे है।

क्या कहा वार्ड पार्षद नीरज बंशल ने
शहर में सफाई व्यवस्था दुरुस्त रखने के लिए प्रत्येक वार्ड में सफाई अभियान चलाया जा रहा है।वही वार्ड पार्षद ने नपा के अधिकारियो पर भेद भाव के साथ सभी कार्यो पर ही सवालिया निशान लगा दिया कि ना सफाई है ना विकाश है तो फिर कहा गए वो 12 करोड़ जो विकाश के नाम पे खर्च हुए है उन्ही को घटघरे में खड़ा कर दिया तो साफ है कि की इस कमेटी में कितने घोटाले हो रहे होंगे ।जो सरकार की नजर में कागज की कार्यवाही तो पृरी है लेकिन ग्राउंड में कुछ और ही है।और जहा ख़ुद सहरी निकाय मंत्री के आदेशों को ठेंगा दिखाया जा रहा हो वहां के विकाश का आप खुद अंदाजा लगा सकते हो गंदगी का ढेर बनकर रह गया है शहर इस के कारण लोगों के स्वास्थ पर विपरीत असर पड रहा है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *