Connect with us

Haryana

सफीदों में फर्जी फाइनेंस कंपनी बनाकर एक डॉक्टर से ठगे 1 लाख 80 हजार रुपए

सत्यखबर, सफीदों – सफीदों में फर्जी फाइनेंस कंपनी बन कर एक डॉक्टर से ठगी का मामला सामने आया है। ठगों ने लोन देने के नाम पर डॉक्टर से 1 लाख 80 हजार रुपए ठग लिए। अब डॉक्टर अपने रुपए पाने के लिए पुलिस थाने के चक्कर काट रहा है। अब तक कम पढ़े लिखे लोगों […]

Published

on

सत्यखबर, सफीदों – सफीदों में फर्जी फाइनेंस कंपनी बन कर एक डॉक्टर से ठगी का मामला सामने आया है। ठगों ने लोन देने के नाम पर डॉक्टर से 1 लाख 80 हजार रुपए ठग लिए। अब डॉक्टर अपने रुपए पाने के लिए पुलिस थाने के चक्कर काट रहा है।

अब तक कम पढ़े लिखे लोगों को ठगी का शिकार बनाया जाता था लेकिन अब इन ठगों का शिकार पढ़े लिखे लोग भी बनने लगे हैं ।ऐसा ही मामला सफीदों में सामने आया है जहां एक डेंटिस्ट डॉक्टर को ठगों ने अपना शिकार बनाया। ठगों ने डॉक्टर अनिल को कम ब्याज की दरों पर 10 लाख रुपए का लोन देने का झांसा देकर उससे रुपए ठग लिए।

डॉक्टर को अपने चक्कर में फंसाने के लिए ठगों ने बिड़ला फाइनेंस कंपनी के नाम से संपर्क किया और डॉक्टर को 10 लाख रुपए का लोन देने का ऑफर किया । डॉक्टर से कागजात लेने के बाद ठगों ने कहा कि हम आपका दूसरी फाइनेंस कंपनी से लोन करवा रहे हैं। जिसके लिए आपको कुछ टोकन मनी देना होगा ।डॉक्टर को अपने ट्रैप में फंसाने के लिए ठगों ने बकायदा उसके नाम से फाइनेंस कंपनी के कागजात भी जारी किए ।इन कागजात को देखकर कोई भी उन पर भरोसा कर सकता है लेकिन बाद में ठगों ने अपने फोन बंद कर लिए और आप डॉक्टर के पास अपना सिर पीटने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा।

ठगी का शिकार हुए डॉक्टर ने सफीदों थाना में शिकायत दी तो वहां से भी उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। पुलिस ने मामले को मीडिया में उठाने की बात कह कर अपना पल्ला झाड़ लिया। लेकिन मामला दर्ज नहीं किया। बड़ी बात यह है कि ठगों द्वारा बैंक के खाते में पैसे जमा करवाए हैं ऐसे में पुलिस ठगों तक आसानी से पहुंच सकती है ,लेकिन पुलिस पूरे मामले में लापरवाही बरत रही है।

डॉक्टर अनिल का कहना है कि उनके साथ तो ठगी हो गई लेकिन दूसरे लोग भी इन आंखों की ठगी का शिकार ना हो इसलिए उन लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होना जरूरी है। अब देखना यह होगा कि पुलिस कब जागेगी और इन ठगों के खिलाफ कदम उठाएगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *