Connect with us

Haryana

हरियाणा का सारा राज जींद जिला की ढयौड़ी पर लाकर रख दुंगा: रणदीप सुरजेवाला

सत्यखबर,सफीदों (सत्यदेव शर्मा ) महाभारतकालीन ऐतिहासिक नगरी सफीदों की पुरानी अनाज मंडी में शनिवार को एआईसीसी सदस्य एवं पूर्व मंत्री बचन सिंह आर्य के संयोजन में विशाल ललकार रैली का आयोजन किया गया। इस रैली में बतौर मुख्यातिथि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने शिरकत की। रैली में उमड़ी भीड़ ने बचन सिंह […]

Published

on

सत्यखबर,सफीदों (सत्यदेव शर्मा )

महाभारतकालीन ऐतिहासिक नगरी सफीदों की पुरानी अनाज मंडी में शनिवार को एआईसीसी सदस्य एवं पूर्व मंत्री बचन सिंह आर्य के संयोजन में विशाल ललकार रैली का आयोजन किया गया। इस रैली में बतौर मुख्यातिथि अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने शिरकत की। रैली में उमड़ी भीड़ ने बचन सिंह आर्य की भीड़ जुटाऊ नेता के रूप में प्राप्त ख्याति पर मुहर लगा दी। रैली में इतनी भीड़ उमड़ी की अनाज मंडी में तिल रखने की भी जगह नहीं थी। रैली में रणदीप सुरजेवाला को नगर के खानसर चौंक से हजारों युवाओं के मोटरसाइकिलों व कारों के जत्थे के साथ मुख्य बाजारों से होते हुए सभास्थल पर लाया गया। काफिले के आगे-आगे जेसीबी के ऊपर चढक़र युवा नेता अशोक आर्य चल रहे थे। रास्ते भर में युवा रणदीप सिंह सुरजेवाला जिंदाबाद, बचन सिंह आर्य जिंदाबाद व अशोक आर्य जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे। वहीं मार्ग में लोग रणदीप सुरजेवाला के साथ मिलाने व फोटो खिंचवाने के लिए लालायित थे। जनसभा में 36 बिरादरी के लोगों ने रणदीप सुरजेवाला व बचन सिंह आर्य का फूलमालाओं, पगडिय़ों व सिरोपों से जोरदार स्वागत किया। रैली के आयोजक एआईसीसी सदस्य एवं पूर्व मंत्री बचन सिंह आर्य ने मुख्यातिथि रणदीप सुरजेवाला व अन्य आए नेताओं का स्वागत करते हुए कहा कि उन्होंने कभी भी जात-पात की राजनीति को तवज्जो नहीं दी। उनकी जात और जमात तो केवल मात्र सफीदों हलके की जनता है। उनका पहले भी ओर आगे भी मुख्य ध्येय क्षेत्र का विकास व युवाओं को रोजगार दिलाना है। उन्होंने रणदीप सुरजेवाला से मांग करते हुए कहा कि सफीदों से हर रोज कई हजार युवा सुबह पांच बजे उठकर समीप की औद्योगिक नगरी पानीपत में रोजगार के लिए जाते हैं, क्योंकि पानीपत ऐशिया का व्यापारिक हब है। सरकार आने के बाद पानीपत-सफीदों मार्ग पर एक औद्योगिक जोन स्थापित करवाया जाए, ताकि युवाओं को सफीदों में ही रोजगार उपलब्ध हो। उन्होंने कहा कि आज के दौर में सफीदों में फैली बदमाशी के कारण यहां का व्यापारी, डाक्टर, दुकानदार, उद्योगपति व शरीफ आदमी दहशत में है और यहां से व्यापारी व डाक्टर लगातार पलायन कर रहे हैं। उन्होंने रणदीप सुरजेवाला से मांग की कि जिस प्रकार उन्होंने कैथल जिला को बदमाश व बदमाशी से मुक्त किया है, ठीक उसी प्रकार राज आने के बाद सफीदों क्षेत्र को भी भय के साए से मुक्त करवाएं। ठाठे मारती रैली को संबोधित करते हुए रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि जींद की धरती ने देश व प्रदेश की राजनीति को अनेकों बाद दिशा दी है। इस जिला ने अनेक सरकारें बनाई और अनेक अहंकारजनित सरकारों को सत्ता से चलता भी किया है। इस ऐतिहासिक धरा का यह इतिहास रहा है कि इस पर बिना राजनीतिक रैली किए कोई भी प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री नहीं बन सका। जींद का यह भी इतिहास रहा है कि वह हर किसी को न्याय की तराजू से तोलती है। आज जींद की पांचों सीटों पर कांग्रेस का कोई भी विधायक नहीं है तथा जिला की पांचों सीटें कांग्रेस की हो इस दिशा में बचन सिंह आर्य ओर अन्य नेता जोरदार ढंग से काम कर रहे हैं। आज देश व प्रदेश के हालात बिगड़े हुए है और अब समय आ गया है कि अहंकारजनित मोदी व खट्टर सरकार को ललकार दी जाए और बचन सिंह आर्य द्वारा सफीदों की ऐतिहासिक पुरानी अनाज मंडी में ललकार रैली आयोजित करके ललकार का शंखनाद किया जा चुका है और वह दिन दूर नहीं जब प्रदेश की सारी सत्ता जींद व सफीदों की ढयौड़ी पर होगी। उन्होंने कहा कि बचन सिंह आर्य ने कभी परिवार के लिए राजनीति नहीं की बल्कि इस क्षेत्र और यहां की जनता के लिए राजनीति की है। बचन सिंह आर्य ने सफीदों विधानसभा क्षेत्र व आर्य सदन को सजाने व संवारने का काम किया है। उन्होंने कहा कि मोदी व खट्टर सरकार ने जातिवाद व अवसरवाद को बढ़ावा दिया है। चुनावों से पूर्व मोदी व खट्टर सरकार ने प्रदेश की जतना से 154 वायदें किए थे और उन वायदों में से एक भी वायदेें को पूरा नहीं किया है और उसका परिणाम यह है कि प्रदेश का हर वर्ग खासकर किसान व कर्मचारी आंदोलनरत्त है और आंदोलित जनता को पुलिस के डंडों से पिटवाया जा रहा है। प्रदेश सरकार ने दिवाला निकाल दिया है और प्रदेश का कर्ज निरंतर बढ़ रहा है। खट्टर सरकार ने तो श्रीमद् भागवत गीता को भी नहीं बख्सा है। इस सरकार ने भगवत गीता को करोडों रूपयों में बेच डाला। हरियाणा का किसान फसलों के कम मूल्यों व कर्ज के बोझ के कारण निरंतर आत्महत्या कर रहा है। मोदी सरकार ने वायदा किया था कि किसानों को लागत मूल्य का पचास प्रतिशत मुनाफा दिया जाएगा लेकिन इसी मोदी सरकार ने 22 फरवरी 2015 को सुप्रीम कोर्ट में शपथ पत्र देकर कहा कि किसान को लागत का पचास प्रतिशत मुनाफा नहीं दिया जा सकता है। एक तरफ सरकार किसानों का कर्जा माफ करने में असक्षम है और दूसरी तरफ नीरव मोदी, मेहुल चौकसी, जतिन मेहता, विजय माल्या, दुर्गादास ज्वैलर्स व ललित मोदी जैसे लोग जनता के खून-पसीने की कमाई का 61 हजार करोड़ रूपया लेकर विदेश फरार हो गए है। दिल्ली में हुए राष्ट्रीय अधिवेशन में कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने पहले की तरह फिर से कांग्रेस शासन आने पर किसानों का कर्जा माफ करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि यह सरकार युवाओं को रोजगार दे पाने में नाकाम साबित हुई है। 4 साल के शासन में यह सरकार केवल 7886 ही नौकरियां दे पाई है और करीब 20 हजार कर्मचारियों को इस सरकार ने हटाने का काम किया है। इस सरकार पेपर लीक करवाने में भी नाम कमा लिया है और अभी हाल ही में सीबीएससी का पेपर लीक हुआ है। इस मौके पर मुख्य रूप से पूर्व विधायक लाड़वा रमेश गुप्ता, पूर्व मंत्री जुंडला राजकुमार वाल्मीकि, पूर्व विधायक फूलसिंह खेड़ी, पूर्व विधायक पवन दीवान, युवा कांग्रेस के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष संजय छौक्कर, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सुरेश गुप्ता, महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्षा सुमित्रा चौहान, कांग्रेस नेता सुधीर गौत्तम जींद, पूर्व सीएम राव विरेंद्र सिंह क पोते राव अर्जुन सिंह, विरेंद्र शाह (बुल्लेशाह) पानीपत, विद्यारानी नरवाना, पूर्व मंत्री करतार भडाना के बेटे मनमोहन भड़ाना, सतबीर गुज्जर, रामचंद्र ढांड, ईश्वर सिंह नैन, विरेंद्र सिंह जागलान व प्रो. महेंद्र सिंह सहित काफी तादाद में लोग मौजूद थे।