Connect with us

Crime

मात्र 250 रूपये में स्मार्टफ़ोन का दावा करने वाले ने किया अब 200 करोड़ का घोटाला

Published

on

सत्यखबर, नई दिल्ली

नोएडा के बहुचर्चित ड्राई फ्रूट्स घोटाला मामले में गिरफ्तार किए गए सात लोगों के खिलाफ थाना सेक्टर 58 पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई की है। करीब 5 वर्ष पहले मात्र 251 रुपये में स्मार्टफोन देने का वायदा कर लाखों लोगों से ठगी करने वाला मोहित गोयल इस गैंग का सरगना बताया जा रहा है। इन सभी पर ड्राई फ्रूटस कारोबार के नाम पर कंपनी बनाकर करीब दो सौ करोड़ से अधिक की ठगी करने का आरोप है।

ये भी पढ़े… राकेश टिकैत ने कहा- किसान आंदोलन की जीत होगी, क्योंकि ये वैचारिक क्रांति है..

अपुर पुलिस उपायुक्त जोन प्रथम रणविजय सिंह ने बताया कि गिरफ्तार किए गए मोहित गोयल, ओम प्रकाश जांगिड़, आकाशदीप शर्मा उर्फ हैरी, पंकज प्रकाश, अमरजीत, सुमिता नेगी उर्फ जैनिया तथा सतन यादव के खिलाफ थाना सेक्टर 58 में धोखाधड़ी के 12 मामले दर्ज हैं।
उन्होंने बताया कि इन ठगों के खिलाफ गुडग़ांव, मुरादाबाद थाना फेस. 3 सहित देश के विभिन्न थानों में 24 से ज्यादा धोखाधड़ी के मामले दर्ज हैं। इनकी गिरफ्तारी थाना सेक्टर 58 पुलिस ने जनवरी 2021 में की थी।
उन्होंने बताया कि इस गिरोह का मुख्य सरगना मोहित गोयल है। जिसने वर्ष 2016 में केवल 251 रुपए में स्मार्टफोन दिए जाने का दावा कर देश के लाखों लोगों से करोड़ों रुपए की ठगी की थी। जिसके बाद इसने गिरोह बनाकर देश के विभिन्न क्षेत्रों में रहने वाले थोक व्यापारियों से सूखे मेवे, चावल, मसाले आदि खरीदे तथा उन्हें भुगतान के लिए नगद के बजाए चेक दिया,जो बाउंस हो गया। उन्होंने बताया कि यह घोटाला 200 करोड़ रुपए से ज्यादा का है।
तब कंपनी ने सात करोड़ से अधिक मोबाइल फ ोन की बुकिंग की थी
शामली के रहने वाले मोहित गोयल ने सेक्टर 63 में रिंगिंग बेल नाम से एक कंपनी खोली थी। मोहित ने फ रवरी 2016 में फ्रीडम 251 के नाम से स्मार्टफोन लॉन्च किया था और दावा किया था कि वह 251 रुपये में लोगों के हाथ में स्मार्टफोन देगा। फ ोन की ब्राडिंग, मार्केटिंग के बाद इस फोन की ऑनलाइन जबर्दस्त बुकिंग हुई थी। तब कंपनी ने सात करोड़ से अधिक मोबाइल फ ोन इस कंपनी में बुक होने के दावे किए गए थे, लेकिन बाद में बुकिंग करने वाले लोगों को फ ोन नहीं मिले। इसके बाद कंपनी के मालिक और पूरे गिरोह के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की गई। अब दूसरे मामले में भी

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *