Connect with us

Haryana

हरियाणा ने रोकी ड्रेन 8 की सप्लाई, दिल्ली में गहरा सकता है जल संकट

सत्यखबर, नई दिल्ली – ड्रेन-8 यमुना व सतलुज का मिला-जुला पानी लेकर पल्ला के पास यमुना में मिलता है। दिल्ली की जीवन रेखा कही जाने वाली यमुना पल्ला गांव से दिल्ली में प्रवेश करती है। दिल्ली में एंट्री से पहले ही यमुना की यह धारा पूरी तरह सूख चुकी है। यमुना नदी में अमोनिया की […]

Published

on

सत्यखबर, नई दिल्ली – ड्रेन-8 यमुना व सतलुज का मिला-जुला पानी लेकर पल्ला के पास यमुना में मिलता है। दिल्ली की जीवन रेखा कही जाने वाली यमुना पल्ला गांव से दिल्ली में प्रवेश करती है। दिल्ली में एंट्री से पहले ही यमुना की यह धारा पूरी तरह सूख चुकी है। यमुना नदी में अमोनिया की मात्रा को लेकर एनजीटी की फटकार के बाद हरियाणा ने दिल्ली में पानी सप्लाई करने वाली दिल्ली ड्रेन नंबर 8 से पानी सप्लाई 10 दिन पहले रोक दी है। इसके खिलाफ दिल्ली सरकार ने दिल्ली जल बोर्ड के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। सुप्रीम कोर्ट इस पर सुनवाई को तैयार हो गया है। मामले की सुनवाई 2 अप्रैल को होगी। उधर, हरियाणा सरकार का कहना है-हम दिल्ली को तय मात्रा से करीब 300 क्यूसेक पानी ज्यादा दे रहे हैं।

करीब 4 दशक में पहली बार यमुना की ऐसी हालत है। पीने के पानी के लिए यमुना जल में दिल्ली का कोटा 719 क्यूसेक (न्यूनतम) है जो इसे तीन नहरों के जरिए मिलता है। हरियाणा के मुनक से कैरियर लाइन कैनाल (सीएलसी) और दिल्ली सब-ब्रांच (मुनक नहर) नामक दो समानांतर नहरों के जरिए दिल्ली को रोजाना करीब 485 क्यूसेक पानी उपलब्ध होता है। यह पानी हैदरपुर वाटरवर्क्स जाता है, जिससे पश्चिमी और दक्षिण-पश्चिमी दिल्ली में पानी की सप्लाई होती है।

बता दें कि यहीं पर हरियाणा की ओर से आने वाली ड्रेन-8 की धारा यमुना में मिलती है। गर्मी के दिनों में जब यमुना की धार कुछ कम होती है तो ड्रेन-8 के सहारे मिलने वाले पानी से दिल्ली तक इसमें भरपूर पानी आता है। अब जबकि हरियाणा ने ड्रेन-8 की ही सप्लाई रोक दी है तो आने वाले दिनों में दिल्ली में जलसंकट और गहरा सकता है।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *