Connect with us

Chandigarh

सरकार द्वारा किसान बचाओ मंडी बचाओ रैली पर रोक लगाना कफन में कील सिद्ध होगी – बजरंग गर्ग

Published

on

पुलिस द्वारा प्रदेश में जगह-जगह किसान व व्यापारी नेताओं को धरपकड़ करना निंदनीय कदम है – बजरंग गर्ग
सरकार किसान व व्यापारी आंदोलन से घबराकर प्रदेश को सील करना उचित नहीं – बजरंग गर्ग

सत्यखबर चण्डीगढ़

अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव व हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने हरियाणा सरकार द्वारा तीनों अध्यादेश के विरोध में की जा रही किसान बचाओ मंडी बचाओ रैली पर प्रतिबंध लगाने की कड़े शब्दों में निंदा की और सरकार द्वारा प्रदेश में जगह-जगह पुलिस के माध्यम से किसान नेताओं व व्यापारी प्रतिनिधियों की धरपकड़ करना सरकार का निंदनीय कदम है। हरियाणा सरकार किसान व व्यापारियों के आंदोलन से इतना घबरा गई कि उन्होंने पूरे प्रदेश को सील कर दिया और कुरुक्षेत्र जिले को पुलिस छावनी में बदल दिया, जो प्रजातंत्र की हत्या है।

प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने कहा कि तीन अध्यादेश व सरकार की गलत नीतियों से देश व प्रदेश के किसान, आढ़ती व आम जनता में भारी रोष है। आज की रैली पर सरकार द्वारा रोक लगाना सरकार के कफन में कील साबित होगी। गर्ग ने कहा कि जब देश का किसान व व्यापारी तीनों नए अध्यादेश के खिलाफ सड़कों पर है तो सरकार जबरदस्ती यह कानून व्यापारी व किसानों पर थोपने पर क्यों अड़ी हुई है। जबकि यह कानून सिर्फ अडानी व अंबानी जैसे बड़े घरानों को फायदा पहुंचाने के लिए सरकार लगा रही है।

उपभोक्ताओं को जल्द मिलेगी नई सुविधा, रजिस्ट्रियों के लिए विभाग शुरू करेगा कॉल सेंटर – उपमुख्यमंत्री

इन तीनों अध्यादेश से किसान व आढ़ती बर्बाद हो जाएगा और मंडियां बंद हो जाएगी। यहां तक की किसान को अपनी फसल के पूरे दाम नहीं मिलेंगे। इन अध्यादेशों में कहीं नहीं लिखा कि प्राइवेट कंपनी एडवांस में किसान की फसल एमएसपी रेटों से कम नहीं खरीद सकती। सरकार ने अध्यादेश के माध्यम से किसान की फसल का एमएसपी पर खरीदने का कानून समाप्त करने की साजिश रच रही है जो सरासर गलत है।

सरकार को मंडी व मंडियों के बाहर फसल बेचने पर 50 पैसें मार्केट फीस करनी चाहिए। ताकि हरियाणा मार्केटिंग बोर्ड व मंडिया बचाई जा सके। प्रांतीय अध्यक्ष बजरंग गर्ग ने केंद्र सरकार से अपील की है की देश के किसान व आढ़तियों को बर्बादी से बचाने के लिए यह तीनों काले कानून तुरंत प्रभाव से वापस लेने चाहिए। जब तक सरकार यह तीन नए अध्यादेश वापस नहीं लेती व्यापार मंडल व किसान संगठनों का आंदोलन जारी रहेगा।